Trending Hashtags

Don't use the same old hashtags, our software automatically detects the top trending hashtags so you can use the best hashtags for your posts every time.

Increased Exposure

Using the right and trendy instagram tags for your post lets you stand out and get more real followers.

Updated Automatically

Our system analyses hashtags live and updates the top trending hashtags in minutes.


Find the top hashtags for #publicpoetry

Using the top trending hashtags is proven to help reach more users and attract real targeted followers.


Pikbe Recommendation:

Use #publicpoetry to get seen now

34
average comments
2K
hashtag reach
488.8
average likes

Best hashtags for #publicpoetry

#publicpoetry
#beautiful
#nofilter
#instamood
#landscape
#sunset
#blackandwhite
#work
#l4l
#hair
#christmas
#sun
#fit
#healthy
#bestoftheday
#blue
#foodie
#followme
#baby
#artist
#dog
#followforfollow
#instagram
#lol
#swag
#lifestyle
#repost
Posts using this hashtag
1,997

Note: If the '&' character is used in the hashtag/s that you're searching for then please use the 'and' keyword instead.


Top 10 hashtags used with #publicpoetry

Percentage of hashtags used with #publicpoetry on Instagram posts

Always up to date

Our software is actively updating our hashtags and including top trending hashtags or every category every few minutes. Be sure to use a trusted hashtag website, to ensure you are using up to date hashtags to maximize your potential and growth on Instagram, along with other social platforms.

Do you have any suggestions? Please send your feedback to us. We are always driven to provide a better service.

Hashtags available right here are chosen and also constructed in such a way that reveals their worth. You can pick from the listing that is carefully pertaining to your brand or article. For instance, publicpoetry hashtags are widely browsed on Instagram to be utilized with pertinent articles.

Other than most recent and fashionable Instagram publicpoetry hashtags, you need to upgrade pertinent material as well. As an example, if you aspire to utilize hashtags, after that see to it you are utilizing them efficiently. Top publicpoetry hashtags are commonly gone over on Instagram that helps you in grabbing the interest of your targeted audience as well as a boost in the number of fans.

If you start utilizing preferred hashtags for publicpoetry to advertise your brand name, then you will possibly build your involvement, in contrast, to simply replicating and pasting unconnected hashtags. Hashtagsforlikes has actually made it very easy for you to drag the hashtags that relate to your blog post or brand. Right here you will see tiny teams of comparable top Instagram publicpoetry hashtags. These tiny teams can be made use of almost, as you can choose a various one whenever you upload something regarding the same subject or specific niche.

Bear in mind that a few of your blog posts can obtain included in the header area of an Instagram hashtag. It can breast the opportunity of getting even more sort, remarks along with followers, so prepare for that if it occurs every time by uploading a well-formed web content.

With proper and trendy hashtags for hashtags for publicpoetry, you can boost the impressions of your posts and increase the credibility of your brand.


publicpoetry instagram hashtag profile picture

#publicpoetry photos & videos

1,997 Instagram Posts using #publicpoetry hashtag

Advertisements

Top publicpoetry Posts

Link is on my profile!
#Repost @phillyinquirer
- - - - - -
What aspect of life in Philadelphia would you like to read a poem about? Marshall James Kavanaugh gets the answer to that question on a regular basis as Philly's @DreamPoetForHire.
.
Kavanaugh, 32, of West Philly sets ups shop around the city and offers poems on demand to those who cross his path. Just give him a topic and he begins typing away on his typewriter. Moments later, he's reciting your custom poem.
.
“Philly has definitely given me a good range of weird topics. ... Gritty has come up a few times for sure.”
.
Your topic can be one word or you can tell Kavanaugh a full life story. It doesn't matter. All he suggests is a 'donation.' Since he’s a modern poet, he also takes credit cards, Venmo, and PayPal.
.
In just minutes, Kavanaugh can create for strangers, and for himself, what so many of us long for — connection, validation, and concrete proof through art that whatever else may come, this moment in time mattered.
.
This story is part of reporter @farfarraway's series, We The People. To learn more about Kavanaugh and to check out the rest of the series, visit Inquirer.com/wethepeople.
.
📷 by @hkhalifa / Staff
.
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

Link is on my profile! #Repost @phillyinquirer - - - - - - What aspect of life in Philadelphia would you like to read a poem about? Marshall James Kavanaugh gets the answer to that question on a regular basis as Philly's @DreamPoetForHire . . Kavanaugh, 32, of West Philly sets ups shop around the city and offers poems on demand to those who cross his path. Just give him a topic and he begins typing away on his typewriter. Moments later, he's reciting your custom poem. . “Philly has definitely given me a good range of weird topics. ... Gritty has come up a few times for sure.” . Your topic can be one word or you can tell Kavanaugh a full life story. It doesn't matter. All he suggests is a 'donation.' Since he’s a modern poet, he also takes credit cards, Venmo, and PayPal. . In just minutes, Kavanaugh can create for strangers, and for himself, what so many of us long for — connection, validation, and concrete proof through art that whatever else may come, this moment in time mattered. . This story is part of reporter @farfarraway 's series, We The People. To learn more about Kavanaugh and to check out the rest of the series, visit Inquirer.com/wethepeople. . 📷 by @hkhalifa / Staff . #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

Last Saturday, I sat for five hours and probably wrote somewhere near 150 poems at #CollegeFest for students from around the city region. With numbers like that, there start to be motifs and synchronicities between the lines of poetry. One I cared to notice was an interest from my audience in nature and all of its lifeforms. Everything from poems about different animals to the ecosystems they live in and the different weather patterns that accompany those bioregions of earth.
Perhaps it was the end of summer vacation mind or maybe we are all coming to a closer connection to this planet we live on. Over and over people stood in line and asked for poems about the Earth and the beauty of experiencing her.
As a poet, it’s often hard to not get caught up in writing a Hallmark card filled with cliches and catchphrases. To be honest, at first I was inundated by the quantity of requests and I must admit I approached these poems from the surface describing the medicine found available deep in the wilderness. But then I started to look into the eyes of my subscribers and they seemed to seek something even deeper. These were the peers to a generation that for years now has led student walk outs for climate change as well as so many other issues around the world and continues to demonstrate that a better world is possible. It seemed they could handle honesty.
I mean, it is one thing to write about how beautiful the ocean or forest is. It is another to admit within the poem that right now our oceans are filling with plastic and the Amazon is being intentionally set on fire. To admit that to understand the beauty, we must collectively commiserate on the fact that if nothing is done, in less than fifty years it may no longer exist.
I am still every day discovering the power of poetry. It is a wonder to connect the words and see how they land. I have always thought the point of a dream poem is to manifest the reality we all seek, one verse at a time. Line for line, the dream begins to wake.
August 2019
📷 by @wildwoman_wildheart

Last Saturday, I sat for five hours and probably wrote somewhere near 150 poems at #CollegeFest for students from around the city region. With numbers like that, there start to be motifs and synchronicities between the lines of poetry. One I cared to notice was an interest from my audience in nature and all of its lifeforms. Everything from poems about different animals to the ecosystems they live in and the different weather patterns that accompany those bioregions of earth. Perhaps it was the end of summer vacation mind or maybe we are all coming to a closer connection to this planet we live on. Over and over people stood in line and asked for poems about the Earth and the beauty of experiencing her. As a poet, it’s often hard to not get caught up in writing a Hallmark card filled with cliches and catchphrases. To be honest, at first I was inundated by the quantity of requests and I must admit I approached these poems from the surface describing the medicine found available deep in the wilderness. But then I started to look into the eyes of my subscribers and they seemed to seek something even deeper. These were the peers to a generation that for years now has led student walk outs for climate change as well as so many other issues around the world and continues to demonstrate that a better world is possible. It seemed they could handle honesty. I mean, it is one thing to write about how beautiful the ocean or forest is. It is another to admit within the poem that right now our oceans are filling with plastic and the Amazon is being intentionally set on fire. To admit that to understand the beauty, we must collectively commiserate on the fact that if nothing is done, in less than fifty years it may no longer exist. I am still every day discovering the power of poetry. It is a wonder to connect the words and see how they land. I have always thought the point of a dream poem is to manifest the reality we all seek, one verse at a time. Line for line, the dream begins to wake. August 2019 📷 by @wildwoman_wildheart

I had the opportunity to paint alongside amazing graffiti and street artists yesterday thanks to @theartofwillpower and @albertusjoseph. Painting my words in large scale is always such a thrilling experience.
.
In the past, I’ve used spray paint or paint pens but this time I tried an old technique called Pouncing. You create the image on paper then punch tiny holes along the outline and transfer the image to the surface with a powdered chalk. I loved how meditative it was to then hand paint my words in.
.
Thank you to @android_oi for introducing me to this method and for helping me the entire way through it. I always learn so much from you!
.
Thank you to my roommate @chelsey__ann for helping paint in the words and not throwing away my yellow pepper grinder 😂
.
Can’t wait for more opportunities to paint again!
.
.
#mylifeinyellow #yellow #publicpoetry #nycstreetart #streetartnyc #streetart #streetarteverywhere #wordsofwisdom #poem #quote #poetry #poetsofinstagram #poetsofig #herheartpoetry #wordsmith #nycgraffiti #graffiti #newyorksaid #stickerartnyc #instapoet #instagrampoet #mural

I had the opportunity to paint alongside amazing graffiti and street artists yesterday thanks to @theartofwillpower and @albertusjoseph . Painting my words in large scale is always such a thrilling experience. . In the past, I’ve used spray paint or paint pens but this time I tried an old technique called Pouncing. You create the image on paper then punch tiny holes along the outline and transfer the image to the surface with a powdered chalk. I loved how meditative it was to then hand paint my words in. . Thank you to @android_oi for introducing me to this method and for helping me the entire way through it. I always learn so much from you! . Thank you to my roommate @chelsey__ann for helping paint in the words and not throwing away my yellow pepper grinder 😂 . Can’t wait for more opportunities to paint again! . . #mylifeinyellow #yellow #publicpoetry #nycstreetart #streetartnyc #streetart #streetarteverywhere #wordsofwisdom #poem #quote #poetry #poetsofinstagram #poetsofig #herheartpoetry #wordsmith #nycgraffiti #graffiti #newyorksaid #stickerartnyc #instapoet #instagrampoet #mural

If you have a minute, go read this spotlight @phillyinquirer just ran on your favorite Dream Poet!
Link is in my bio.
I feel incredibly lucky to have this opportunity to be able to share more of the story that got me here. Let’s bring poetry even more out of its solitary depths and into the public sphere. Feel free to share the link and tell me your thoughts in the comments! Thanks so much, Philly, for the consistent community throughout the years I’ve made this gritty city my home!
.
.
.
.
Also, a big hearty thank you to @farfarraway0444 for wanting to feature me in her column, We The People, which tells the stories of normal Philadelphians adding something unique and special to the City of Brotherly Love. Also, many thanks to the talented videographer @laurenschmoren for putting together such a warm short of me describing what it’s like to craft poems on the streets of Philly and @hkhalifa for her excellent snapshots of the creative juices flowing. I’m deeply moved by the efforts taken to capture this moment in time for me as a poet.

If you have a minute, go read this spotlight @phillyinquirer just ran on your favorite Dream Poet! Link is in my bio. I feel incredibly lucky to have this opportunity to be able to share more of the story that got me here. Let’s bring poetry even more out of its solitary depths and into the public sphere. Feel free to share the link and tell me your thoughts in the comments! Thanks so much, Philly, for the consistent community throughout the years I’ve made this gritty city my home! . . . . Also, a big hearty thank you to @farfarraway0444 for wanting to feature me in her column, We The People, which tells the stories of normal Philadelphians adding something unique and special to the City of Brotherly Love. Also, many thanks to the talented videographer @laurenschmoren for putting together such a warm short of me describing what it’s like to craft poems on the streets of Philly and @hkhalifa for her excellent snapshots of the creative juices flowing. I’m deeply moved by the efforts taken to capture this moment in time for me as a poet.

A N X I E T Y
Is a broken alarm system
Sounding without reason.
It is the person in the room
Going on and on about nothing.
It is a method of torture ripping
You apart from the inside out.
It is a voice repeating.
It is a loud crash in the night.
It is the sound of a gun firing.
It is a rope tied around you.
It is a punch to the stomach.
It is the bully at school.
It is the bully at work.
It is a list of reasons why
You will never be good enough.
Anxiety is an asshole.
.
.
#mylifeinyellow #eggshellstickers #yellow #publicpoetry #nycstickers #nycstreetart #nycstickerslaps #streetartnyc #streetart #streetarteverywhere #wordsofwisdom #poem #quote #poetry #poetsofinstagram #poetsofig #herheartpoetry #wordsmith #nycgraffiti #graffiti #newyorksaid #stickerart #stickerartnyc #instapoet #instagrampoet #anxiety

A N X I E T Y Is a broken alarm system Sounding without reason. It is the person in the room Going on and on about nothing. It is a method of torture ripping You apart from the inside out. It is a voice repeating. It is a loud crash in the night. It is the sound of a gun firing. It is a rope tied around you. It is a punch to the stomach. It is the bully at school. It is the bully at work. It is a list of reasons why You will never be good enough. Anxiety is an asshole. . . #mylifeinyellow #eggshellstickers #yellow #publicpoetry #nycstickers #nycstreetart #nycstickerslaps #streetartnyc #streetart #streetarteverywhere #wordsofwisdom #poem #quote #poetry #poetsofinstagram #poetsofig #herheartpoetry #wordsmith #nycgraffiti #graffiti #newyorksaid #stickerart #stickerartnyc #instapoet #instagrampoet #anxiety

Let’s not just skim the surface of acquaintances and notice there could be more to this than “hello” & “goodbye.” I’m not one night stand material, superficial body against superficial body doesn’t satisfy me. It bores me in fact. I have better things to do with my energy then give it away to you, a random body using me to fill the absence of depth and love of self. Sure, I’ve been tempted to fill my own void with anyone who drops crumbs at my feet but let’s just be honest for a moment... how do you ever expect to be fully connected with yourself or anyone else if you constantly look for distractions from confronting your truths waiting for you to notice?
.
.
FOUND by @pictureworthyoflove .
.
#mylifeinyellow #eggshellstickers #yellow #publicpoetry #nycstickers #nycstreetart #nycstickerslaps #streetartnyc #streetart #streetarteverywhere #wordsofwisdom #poem #quote #poetry #poetsofinstagram #poetsofig #herheartpoetry #wordsmith #nycgraffiti #graffiti #newyorksaid #stickerart #stickerartnyc #instapoet #instagrampoet

Let’s not just skim the surface of acquaintances and notice there could be more to this than “hello” & “goodbye.” I’m not one night stand material, superficial body against superficial body doesn’t satisfy me. It bores me in fact. I have better things to do with my energy then give it away to you, a random body using me to fill the absence of depth and love of self. Sure, I’ve been tempted to fill my own void with anyone who drops crumbs at my feet but let’s just be honest for a moment... how do you ever expect to be fully connected with yourself or anyone else if you constantly look for distractions from confronting your truths waiting for you to notice? . . FOUND by @pictureworthyoflove . . #mylifeinyellow #eggshellstickers #yellow #publicpoetry #nycstickers #nycstreetart #nycstickerslaps #streetartnyc #streetart #streetarteverywhere #wordsofwisdom #poem #quote #poetry #poetsofinstagram #poetsofig #herheartpoetry #wordsmith #nycgraffiti #graffiti #newyorksaid #stickerart #stickerartnyc #instapoet #instagrampoet

I like my sugar with coffee and cream . . .
•
Over coffee this morning I got to thinking and wondering what it is you guys like about the feed I’ve created.
What ingredients do you like most in my public diary?
In the comments below I’d love to know what you like most so I can provide more of that for you.
So tell me. . . What are you here for 👇🏻 #commentsplease
Fact:
I love the Beastie Boys, like a lot.
But I actually drink my coffee with coconut milk, it’s my jam.

I like my sugar with coffee and cream . . . • Over coffee this morning I got to thinking and wondering what it is you guys like about the feed I’ve created. What ingredients do you like most in my public diary? In the comments below I’d love to know what you like most so I can provide more of that for you. So tell me. . . What are you here for 👇🏻 #commentspleaseFact: I love the Beastie Boys, like a lot. But I actually drink my coffee with coconut milk, it’s my jam.

You can watch the rest of this heartwarming video about being a Dream Poet For Hire put together by @laurenschmoren for the article in the @phillyinquirer.
Link is in my bio. Go take a look!
Thank you again to @farfarraway0444 for wanting to feature me in her column and to everyone who has reached out to cheer on the poetry! See you in the streets for some poems this weekend!

You can watch the rest of this heartwarming video about being a Dream Poet For Hire put together by @laurenschmoren for the article in the @phillyinquirer . Link is in my bio. Go take a look! Thank you again to @farfarraway0444 for wanting to feature me in her column and to everyone who has reached out to cheer on the poetry! See you in the streets for some poems this weekend!

Advertisements

Latest publicpoetry Posts

Unicorns, mermaids, stars, and the moon. Night time at the @paseoproject brings out the wildest imaginations. A poem delivered into the cosmos, fresh from the muse of the high desert.
September 2019
📷 by @a_muse_amused
installation with @punchkeypoetry and @williamcurius at the Paseo New Media Festival
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex #paseoproject #paseotaos #paseotaos2019

Unicorns, mermaids, stars, and the moon. Night time at the @paseoproject brings out the wildest imaginations. A poem delivered into the cosmos, fresh from the muse of the high desert. September 2019 📷 by @a_muse_amused installation with @punchkeypoetry and @williamcurius at the Paseo New Media Festival #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex #paseoproject #paseotaos #paseotaos2019

It’s hard to capture the whirlwind of spirit that took place at the @paseoproject over the last two days. Thousands of dreamers, artists, and creators from all over New Mexico and around the world descended on the tiny town of Taos, which was transformed into a whole other universe thanks to the construction of several dozen installations and pop-up vibrations spread throughout the historic district.
Over two nights the poets multiplied, from one to two to three. A dream poet, a mad-hatted alchemist, and a punch key mountaineer. Multicolored lights and tea light candles. Frankincense and palo santo. The southwestern Muse channeling through the full moon and typed out on the paint-splattered page.
I swear on the first day we set up and out of thin air a black cat materialized and sat in our laps and I looked up at our audience and said, “Oh, shoot! I think the poets have turned into witches!” The energy of magic spilling out of the page and into reality. Every word typed in an attempt at making the veil grow even thinner to reveal the beauty behind the shadows.
September 2019
📷 by @juliadayedot
installation with @punchkeypoetry and @williamcurius at the Paseo New Media Festival
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex #paseoproject #paseotaos #paseotaos2019

It’s hard to capture the whirlwind of spirit that took place at the @paseoproject over the last two days. Thousands of dreamers, artists, and creators from all over New Mexico and around the world descended on the tiny town of Taos, which was transformed into a whole other universe thanks to the construction of several dozen installations and pop-up vibrations spread throughout the historic district. Over two nights the poets multiplied, from one to two to three. A dream poet, a mad-hatted alchemist, and a punch key mountaineer. Multicolored lights and tea light candles. Frankincense and palo santo. The southwestern Muse channeling through the full moon and typed out on the paint-splattered page. I swear on the first day we set up and out of thin air a black cat materialized and sat in our laps and I looked up at our audience and said, “Oh, shoot! I think the poets have turned into witches!” The energy of magic spilling out of the page and into reality. Every word typed in an attempt at making the veil grow even thinner to reveal the beauty behind the shadows. September 2019 📷 by @juliadayedot installation with @punchkeypoetry and @williamcurius at the Paseo New Media Festival #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex #paseoproject #paseotaos #paseotaos2019

@robertmontgomerystudio 🥠
This weekend, I’m all over the place. If you’re in Philadelphia, go grab a copy of the #philadelphiadailynews. An article about your favorite Dream Poet is on page 5.
Link to the article is on my profile.
Thank you again so much to Stephanie Farr (@farfarraway0444) for including my story in her series, #WeThePeople about Philadelphians who make this city so interesting.

This weekend, I’m all over the place. If you’re in Philadelphia, go grab a copy of the #philadelphiadailynews. An article about your favorite Dream Poet is on page 5. Link to the article is on my profile. Thank you again so much to Stephanie Farr ( @farfarraway0444 ) for including my story in her series, #WeThePeople about Philadelphians who make this city so interesting.

Like in a dream, the village is transformed out of its adobe roots into a techno alien takeover from the future. Everything is a blur as the lights dictate our imaginations to wander. The words flow out of full moon, Friday the 13th, interconnected channels. A muse intoxicated by how high in the mountains we go to find our peace amidst the DJs‘ rumble.
2 hours of sleep and 14 hours of travel later, I set up at the @paseoproject new media festival with @punchkeypoetry only to be greeted by a spectacle of wonder. Sometimes even a Dream Poet can’t decide where the dream ends and where this reality begins.
September 2019
📷 by @hightaoscat
Got a poem that needs to be written? You can DM me or send an email to dreampoetforhire@gmail.com to commission me for a poem on any topic and I’ll send it to you in the mail.
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex #paseoproject #paseotaos #paseotaos2019

Like in a dream, the village is transformed out of its adobe roots into a techno alien takeover from the future. Everything is a blur as the lights dictate our imaginations to wander. The words flow out of full moon, Friday the 13th, interconnected channels. A muse intoxicated by how high in the mountains we go to find our peace amidst the DJs‘ rumble. 2 hours of sleep and 14 hours of travel later, I set up at the @paseoproject new media festival with @punchkeypoetry only to be greeted by a spectacle of wonder. Sometimes even a Dream Poet can’t decide where the dream ends and where this reality begins. September 2019 📷 by @hightaoscat Got a poem that needs to be written? You can DM me or send an email to dreampoetforhire @gmail .com to commission me for a poem on any topic and I’ll send it to you in the mail. #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex #paseoproject #paseotaos #paseotaos2019

@हम है हिंदी
भरत के दीवाने सुनो,
काव्य एक नई सहारा है।
उलझनों की संज्ञा इसे ना दो,
भारत भाग्य का एक किनारा है।। लहरों की बात जब भी आए,
रत्नाकर जैसा ना प्यारा है। गागर में सागर क्या देखें हो, बिहारी की सृजन ही न्यारा है।। कथा-कहानी जो सजीव यहां पर,
साहित्यकारों की सजग धारा है।
भूले वर्तमान किसी की प्रेरणा तो, निराला के निराले काव्य ने उद्गारा है।। भाषा की सृजन क्यों रुके,
जब भरतमुनि की रसधारा है।
प्रेम यहां क्यों झूठा हो जाए,
जहाँ कृष्ण ही मीरा से हारा है।। ज्ञान गुणगान क्या रखूं प्यारे, वेद-वेदांग भारत ने उबारा है।
विश्व गणित की मोल बढ़ा दी,
आर्यभट्ट के शून्य ही चारा है।। भाषा कभी पुरस्कार बनी, जीवन की छवि जब निहारा है।
कवि कोकिल कौन बन जाए,
जहां भाषा ने प्रकाश जारा है।। लोकहित यहां प्रारब्ध से है,
तुलसी रामायण ही सहारा है।
मनोवृति गीता ज्ञान, बढ़ा सका, वेदव्यास के तप की धारा है।। नवीन-प्रवीन काव्य लिखता हूं, विवेकी को काव्य ही प्यारा है।
परिवर्तन मन कही ठन जाए,
हिंदी दिवस पर बातों को उद्गारा है।। ✍️कवि @केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdeadbutiam

@ हम है हिंदी भरत के दीवाने सुनो, काव्य एक नई सहारा है। उलझनों की संज्ञा इसे ना दो, भारत भाग्य का एक किनारा है।। लहरों की बात जब भी आए, रत्नाकर जैसा ना प्यारा है। गागर में सागर क्या देखें हो, बिहारी की सृजन ही न्यारा है।। कथा-कहानी जो सजीव यहां पर, साहित्यकारों की सजग धारा है। भूले वर्तमान किसी की प्रेरणा तो, निराला के निराले काव्य ने उद्गारा है।। भाषा की सृजन क्यों रुके, जब भरतमुनि की रसधारा है। प्रेम यहां क्यों झूठा हो जाए, जहाँ कृष्ण ही मीरा से हारा है।। ज्ञान गुणगान क्या रखूं प्यारे, वेद-वेदांग भारत ने उबारा है। विश्व गणित की मोल बढ़ा दी, आर्यभट्ट के शून्य ही चारा है।। भाषा कभी पुरस्कार बनी, जीवन की छवि जब निहारा है। कवि कोकिल कौन बन जाए, जहां भाषा ने प्रकाश जारा है।। लोकहित यहां प्रारब्ध से है, तुलसी रामायण ही सहारा है। मनोवृति गीता ज्ञान, बढ़ा सका, वेदव्यास के तप की धारा है।। नवीन-प्रवीन काव्य लिखता हूं, विवेकी को काव्य ही प्यारा है। परिवर्तन मन कही ठन जाए, हिंदी दिवस पर बातों को उद्गारा है।। ✍️कवि @ केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdeadbutiam

For the next week, I’ll be on a short poetry mission to the enchanted lands of New Mexico. I expect to take a peek at the @paseoproject new media festival, which kicks off tonight in Taos, NM and sling some poems at the @taos_farmers_market tomorrow morning. Going to spend all next week hiking up in the mountains and soaking up the last week of summer warmth. If time permits, I’ll even pop up on the streets of Santa Fe before I fly back home to Philadelphia.
I think my favorite time in New Mexico is in September. There’s a shift you can feel from the first aspen turning golden upon the peaks to the winter chill that cools the valley as the nights get longer. Everything slows down and there is more time to dream between celebrations of the harvest. Fingers crossed the hot springs alongside the Rio Grande are revealed and in their depths I’ll find a haiku or two. Can’t wait to see you all and reconnect with my community in those rocky mountains.
July 2019
📷 by Rachel Rippie
Got a poem that needs to be written? You can DM me or send an email to dreampoetforhire@gmail.com to commission me for a poem on any topic and I’ll send it to you in the mail.
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex

For the next week, I’ll be on a short poetry mission to the enchanted lands of New Mexico. I expect to take a peek at the @paseoproject new media festival, which kicks off tonight in Taos, NM and sling some poems at the @taos_farmers_market tomorrow morning. Going to spend all next week hiking up in the mountains and soaking up the last week of summer warmth. If time permits, I’ll even pop up on the streets of Santa Fe before I fly back home to Philadelphia. I think my favorite time in New Mexico is in September. There’s a shift you can feel from the first aspen turning golden upon the peaks to the winter chill that cools the valley as the nights get longer. Everything slows down and there is more time to dream between celebrations of the harvest. Fingers crossed the hot springs alongside the Rio Grande are revealed and in their depths I’ll find a haiku or two. Can’t wait to see you all and reconnect with my community in those rocky mountains. July 2019 📷 by Rachel Rippie Got a poem that needs to be written? You can DM me or send an email to dreampoetforhire @gmail .com to commission me for a poem on any topic and I’ll send it to you in the mail. #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #santafepoet #taosvortex

Keep an eye out for your favorite Dream Poet this evening slinging poems alongside the best restaurants in Philadelphia at #bestofphilly2019 hosted by @phillymag. Offered up will be a little bit of soul food a la carte to go with your fine dining.
You can find me set up inside the @fashiondistrictphl pop-up in Dilworth Park at City Hall from 5:30pm-9:30pm.
September 2019
📸 by @gingerrell101
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #dilworthpark #fashiondistrictphl #phillypoet #phillypoetry

Keep an eye out for your favorite Dream Poet this evening slinging poems alongside the best restaurants in Philadelphia at #bestofphilly2019 hosted by @phillymag . Offered up will be a little bit of soul food a la carte to go with your fine dining. You can find me set up inside the @fashiondistrictphl pop-up in Dilworth Park at City Hall from 5:30pm-9:30pm. September 2019 📸 by @gingerrell101 #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #dilworthpark #fashiondistrictphl #phillypoet #phillypoetry

I’ve got something up my sleeve. The magic of poetry.
August 2019
📷 by @jpoakes_photography
You can DM me or send an email to dreampoetforhire@gmail.com to commission me for a poem on any topic and I’ll send it to you in the mail.
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

I’ve got something up my sleeve. The magic of poetry. August 2019 📷 by @jpoakes_photography You can DM me or send an email to dreampoetforhire @gmail .com to commission me for a poem on any topic and I’ll send it to you in the mail. #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

मच्छर और नेता
मच्छरों-सी जिंदगी है,
भिन्नभिनाते फिरते है।
कही-कही काट पाते जो,
ताली से हमेशा पीटते है।। शोर में केवल आवाज बनाते,
अकेले में बस फटते है।
औकात किसी की क्या होगी,
पीछे से लहू चुभते है।। रजनी में कपाट खोलते,
एक एक का स्वागत करते है।
कितना भी सबल हो जाओ,
निद्रा में बजट पास करते है।। आतिशो की शुरूवात यही है,
बस नशे में बाते करते है।
सबका विरोध भी करते,
पार्टी पूरी रात करते है।। कौन जानता,क्या होगा,
हम अपने भाषा रखते है।
उलझता हमसे हर कोई,
हम अपने काम में निखरते है।। युग में यही स्वरूप रहा,
क्रोधी इंतजार करते है।
आते देख वो दौड़ जाते,
उनके सिर दीवार के होते है।। दोष बहुत होते हमारे,
फिर भी क्या बिगाड़ लेते है।
बिना निशाने की ताली हो,
बचते बचाते काट लेते है।। समय फिर से लौटा है,
उमस से हम जग जाते है।
प्रदूषण की गुड़वात्ता बढ़ी,
हारी पार्टी से ताली बजवाते है।। ✍केशव विवेकी (@keshavviveki )
#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

मच्छर और नेता मच्छरों-सी जिंदगी है, भिन्नभिनाते फिरते है। कही-कही काट पाते जो, ताली से हमेशा पीटते है।। शोर में केवल आवाज बनाते, अकेले में बस फटते है। औकात किसी की क्या होगी, पीछे से लहू चुभते है।। रजनी में कपाट खोलते, एक एक का स्वागत करते है। कितना भी सबल हो जाओ, निद्रा में बजट पास करते है।। आतिशो की शुरूवात यही है, बस नशे में बाते करते है। सबका विरोध भी करते, पार्टी पूरी रात करते है।। कौन जानता,क्या होगा, हम अपने भाषा रखते है। उलझता हमसे हर कोई, हम अपने काम में निखरते है।। युग में यही स्वरूप रहा, क्रोधी इंतजार करते है। आते देख वो दौड़ जाते, उनके सिर दीवार के होते है।। दोष बहुत होते हमारे, फिर भी क्या बिगाड़ लेते है। बिना निशाने की ताली हो, बचते बचाते काट लेते है।। समय फिर से लौटा है, उमस से हम जग जाते है। प्रदूषण की गुड़वात्ता बढ़ी, हारी पार्टी से ताली बजवाते है।। ✍केशव विवेकी ( @keshavviveki ) #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

अब तक तो लड़के जाते थे... अब वो आयेंगी.. क्या बात..
युग परिवर्तन😄😆 #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent
मच्छर और नेता
मच्छरों - सी जिंदगी है,
भिन्न भिनाते फिरते है।
कही-कही काट पाते जो,
ताली से हमेशा पीटते है।। शोर में केवल आवाज बनाते,
अकेले में बस फटते है।
औकात किसी की क्या होगी,
पीछे से लहू चुभते है।। रजनी में कपाट खोलते,
एक एक का स्वागत करते है।
कितना भी सबल हो जाओ,
निद्रा में बजट पास करते है।। आतिशो की शुरूवात यही है,
बस नशे में बाते करते है।
सबका विरोध भी करते,
पार्टी पूरी रात करते है।। कौन जानता,क्या होगा,
हम अपने भाषा रखते है।
उलझता हमसे हर कोई,
हम अपने काम में निखरते है।। युग में यही स्वरूप रहा,
क्रोधी इंतजार करते है।
आते देख वो दौड़ जाते,
उनके सिर दीवार के होते है।। दोष बहुत होते हमारे,
फिर भी क्या बिगाड़ लेते है।
बिना निशाने की ताली हो,
बचते बचाते काट लेते है।। समय फिर से लौटा है,
उमस से हम जग जाते है।
प्रदूषण की गुड़वात्ता बढ़ी,
हारी पार्टी से ताली बजवाते है।। ✍️केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

मच्छर और नेता मच्छरों - सी जिंदगी है, भिन्न भिनाते फिरते है। कही-कही काट पाते जो, ताली से हमेशा पीटते है।। शोर में केवल आवाज बनाते, अकेले में बस फटते है। औकात किसी की क्या होगी, पीछे से लहू चुभते है।। रजनी में कपाट खोलते, एक एक का स्वागत करते है। कितना भी सबल हो जाओ, निद्रा में बजट पास करते है।। आतिशो की शुरूवात यही है, बस नशे में बाते करते है। सबका विरोध भी करते, पार्टी पूरी रात करते है।। कौन जानता,क्या होगा, हम अपने भाषा रखते है। उलझता हमसे हर कोई, हम अपने काम में निखरते है।। युग में यही स्वरूप रहा, क्रोधी इंतजार करते है। आते देख वो दौड़ जाते, उनके सिर दीवार के होते है।। दोष बहुत होते हमारे, फिर भी क्या बिगाड़ लेते है। बिना निशाने की ताली हो, बचते बचाते काट लेते है।। समय फिर से लौटा है, उमस से हम जग जाते है। प्रदूषण की गुड़वात्ता बढ़ी, हारी पार्टी से ताली बजवाते है।। ✍️केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

Last Saturday, I sat for five hours and probably wrote somewhere near 150 poems at #CollegeFest for students from around the city region. With numbers like that, there start to be motifs and synchronicities between the lines of poetry. One I cared to notice was an interest from my audience in nature and all of its lifeforms. Everything from poems about different animals to the ecosystems they live in and the different weather patterns that accompany those bioregions of earth.
Perhaps it was the end of summer vacation mind or maybe we are all coming to a closer connection to this planet we live on. Over and over people stood in line and asked for poems about the Earth and the beauty of experiencing her.
As a poet, it’s often hard to not get caught up in writing a Hallmark card filled with cliches and catchphrases. To be honest, at first I was inundated by the quantity of requests and I must admit I approached these poems from the surface describing the medicine found available deep in the wilderness. But then I started to look into the eyes of my subscribers and they seemed to seek something even deeper. These were the peers to a generation that for years now has led student walk outs for climate change as well as so many other issues around the world and continues to demonstrate that a better world is possible. It seemed they could handle honesty.
I mean, it is one thing to write about how beautiful the ocean or forest is. It is another to admit within the poem that right now our oceans are filling with plastic and the Amazon is being intentionally set on fire. To admit that to understand the beauty, we must collectively commiserate on the fact that if nothing is done, in less than fifty years it may no longer exist.
I am still every day discovering the power of poetry. It is a wonder to connect the words and see how they land. I have always thought the point of a dream poem is to manifest the reality we all seek, one verse at a time. Line for line, the dream begins to wake.
August 2019
📷 by @wildwoman_wildheart

Last Saturday, I sat for five hours and probably wrote somewhere near 150 poems at #CollegeFest for students from around the city region. With numbers like that, there start to be motifs and synchronicities between the lines of poetry. One I cared to notice was an interest from my audience in nature and all of its lifeforms. Everything from poems about different animals to the ecosystems they live in and the different weather patterns that accompany those bioregions of earth. Perhaps it was the end of summer vacation mind or maybe we are all coming to a closer connection to this planet we live on. Over and over people stood in line and asked for poems about the Earth and the beauty of experiencing her. As a poet, it’s often hard to not get caught up in writing a Hallmark card filled with cliches and catchphrases. To be honest, at first I was inundated by the quantity of requests and I must admit I approached these poems from the surface describing the medicine found available deep in the wilderness. But then I started to look into the eyes of my subscribers and they seemed to seek something even deeper. These were the peers to a generation that for years now has led student walk outs for climate change as well as so many other issues around the world and continues to demonstrate that a better world is possible. It seemed they could handle honesty. I mean, it is one thing to write about how beautiful the ocean or forest is. It is another to admit within the poem that right now our oceans are filling with plastic and the Amazon is being intentionally set on fire. To admit that to understand the beauty, we must collectively commiserate on the fact that if nothing is done, in less than fifty years it may no longer exist. I am still every day discovering the power of poetry. It is a wonder to connect the words and see how they land. I have always thought the point of a dream poem is to manifest the reality we all seek, one verse at a time. Line for line, the dream begins to wake. August 2019 📷 by @wildwoman_wildheart

आज की मंथरा
------------------------------------------------
जलती आग की ज्वाला निकली, पुरुषार्थ से अब तक ना पिघली। तेरे अंदर दया ना देख सका,
बस चोट की तू महारानी निकली।। हम प्रेम प्रसारित करने वाले, तू निजी स्वार्थ में घुटने वाली। बहुत सोच लिए निज रजनी भर,
ना हो कहीं बस तेरे जैसा माली।। अस्पष्टता शिक्षा पर निर्भर है, व्यवहार मानवता के ऊपर है।
तीक्ष्ण स्वभाव करेला का और,
आस्तीन के सांप ना मिले कहीं पर।। इस प्रकृति को सही से कौन जानता, क्या मांग रखती, यह कौन समझता।
हठ हम भी कुछ ऐसे कर देते, टूट, बिखर, पर कुछ ना कर पाता।। सहिष्णुता अपनी तुम रहने दो, इस कटी पतंग को उड़ने दो।
न जाने कितने अवतार और हैं, जो दिख सका वही तक रहने दो।। बाहर अंदर कुछ तो होता है, व्यक्ति अभिव्यक्ति का कुछ होता है।
तेरी कर्कशता ने भी बता दिया, स्वार्थी के पास हृदय नहीं होता है।। ना तू किसी को यहां बसा सकती, बसे को ना तू पहले जगा सकती। बस तेरी जिद्द, कुछ ऐसे ही मिले,
तू उजाड़ भले, पर ना मिला सकती।। हर कोई यहां लाचार खड़ा है, कलयुगी हठयोगिनी से बेकार पड़ा।
न जाने कौन इनसे और बिखर सकते, ऐसे असंख्य संसार में किरदार पड़ा ।। --------------------------------------------------
✍️केशव विवेकी (@keshavviveki )
-------------------------------------------------- -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

आज की मंथरा ------------------------------------------------ जलती आग की ज्वाला निकली, पुरुषार्थ से अब तक ना पिघली। तेरे अंदर दया ना देख सका, बस चोट की तू महारानी निकली।। हम प्रेम प्रसारित करने वाले, तू निजी स्वार्थ में घुटने वाली। बहुत सोच लिए निज रजनी भर, ना हो कहीं बस तेरे जैसा माली।। अस्पष्टता शिक्षा पर निर्भर है, व्यवहार मानवता के ऊपर है। तीक्ष्ण स्वभाव करेला का और, आस्तीन के सांप ना मिले कहीं पर।। इस प्रकृति को सही से कौन जानता, क्या मांग रखती, यह कौन समझता। हठ हम भी कुछ ऐसे कर देते, टूट, बिखर, पर कुछ ना कर पाता।। सहिष्णुता अपनी तुम रहने दो, इस कटी पतंग को उड़ने दो। न जाने कितने अवतार और हैं, जो दिख सका वही तक रहने दो।। बाहर अंदर कुछ तो होता है, व्यक्ति अभिव्यक्ति का कुछ होता है। तेरी कर्कशता ने भी बता दिया, स्वार्थी के पास हृदय नहीं होता है।। ना तू किसी को यहां बसा सकती, बसे को ना तू पहले जगा सकती। बस तेरी जिद्द, कुछ ऐसे ही मिले, तू उजाड़ भले, पर ना मिला सकती।। हर कोई यहां लाचार खड़ा है, कलयुगी हठयोगिनी से बेकार पड़ा। न जाने कौन इनसे और बिखर सकते, ऐसे असंख्य संसार में किरदार पड़ा ।। -------------------------------------------------- ✍️केशव विवेकी ( @keshavviveki ) -------------------------------------------------- - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

आज की मंथरा
जलती आग की ज्वाला निकली, पुरुषार्थ से अब तक ना पिघली। तेरे अंदर दया ना देख सका,
बस चोट की तू महारानी निकली।। हम प्रेम प्रसारित करने वाले, तू निजी स्वार्थ में घुटने वाली। बहुत सोच लिए निज रजनी भर,
ना हो कहीं बस तेरे जैसा माली।। अस्पष्टता शिक्षा पर निर्भर है, व्यवहार मानवता के ऊपर है।
तीक्ष्ण स्वभाव करेला का और,
आस्तीन के सांप ना मिले कहीं पर।। इस प्रकृति को सही से कौन जानता, क्या मांग रखती, यह कौन समझता।
हठ हम भी कुछ ऐसे कर देते, टूट, बिखर, पर कुछ ना कर पाता।। सहिष्णुता अपनी तुम रहने दो, इस कटी पतंग को उड़ने दो।
न जाने कितने अवतार और हैं, जो दिख सका वही तक रहने दो।। बाहर अंदर कुछ तो होता है, व्यक्ति अभिव्यक्ति का कुछ होता है।
तेरी कर्कशता ने भी बता दिया, स्वार्थी के पास हृदय नहीं होता है।। ना तू किसी को यहां बसा सकती, बसे को ना तू पहले जगा सकती। बस तेरी जिद्द, कुछ ऐसे ही मिले,
तू उजाड़ भले, पर ना मिला सकती।। हर कोई यहां लाचार खड़ा है, कलयुगी हठयोगिनी से बेकार पड़ा।
न जाने कौन इनसे और बिखर सकते, ऐसे असंख्य संसार में किरदार पड़ा ।। ✍️केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

आज की मंथरा जलती आग की ज्वाला निकली, पुरुषार्थ से अब तक ना पिघली। तेरे अंदर दया ना देख सका, बस चोट की तू महारानी निकली।। हम प्रेम प्रसारित करने वाले, तू निजी स्वार्थ में घुटने वाली। बहुत सोच लिए निज रजनी भर, ना हो कहीं बस तेरे जैसा माली।। अस्पष्टता शिक्षा पर निर्भर है, व्यवहार मानवता के ऊपर है। तीक्ष्ण स्वभाव करेला का और, आस्तीन के सांप ना मिले कहीं पर।। इस प्रकृति को सही से कौन जानता, क्या मांग रखती, यह कौन समझता। हठ हम भी कुछ ऐसे कर देते, टूट, बिखर, पर कुछ ना कर पाता।। सहिष्णुता अपनी तुम रहने दो, इस कटी पतंग को उड़ने दो। न जाने कितने अवतार और हैं, जो दिख सका वही तक रहने दो।। बाहर अंदर कुछ तो होता है, व्यक्ति अभिव्यक्ति का कुछ होता है। तेरी कर्कशता ने भी बता दिया, स्वार्थी के पास हृदय नहीं होता है।। ना तू किसी को यहां बसा सकती, बसे को ना तू पहले जगा सकती। बस तेरी जिद्द, कुछ ऐसे ही मिले, तू उजाड़ भले, पर ना मिला सकती।। हर कोई यहां लाचार खड़ा है, कलयुगी हठयोगिनी से बेकार पड़ा। न जाने कौन इनसे और बिखर सकते, ऐसे असंख्य संसार में किरदार पड़ा ।। ✍️केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

Have you read this insightful story in our winter edition of Urban Village Magazine?
Fiona takes us through the dynamic journey of poetry, the many places it is found and the many opportunities for literary and creative expression that is has for the public.
Read more on her story, that features some inspiring info on @redroompoetry who are carrying out some incredible literary initiatives for our community that are making huge positive impact.
#sydneylocal #surryhills #sydneypoetry #redroompoetry

Have you read this insightful story in our winter edition of Urban Village Magazine? Fiona takes us through the dynamic journey of poetry, the many places it is found and the many opportunities for literary and creative expression that is has for the public. Read more on her story, that features some inspiring info on @redroompoetry who are carrying out some incredible literary initiatives for our community that are making huge positive impact. #sydneylocal #surryhills #sydneypoetry #redroompoetry

प्रेम की एक ग़ज़ल प्रेम की एक धुन गुनगुनाता हूँ। जिस प्रेम से चलती है दुनियाँ, आइए मैं उसी के कुछ शेर सुनाता हूँ।
_______________________________________________________________________
मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई,
पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। मैंने खिलती कली को हिं देखा था तब,
आज देखो वो कितनी जवां हो गई।
उसकी आँखें तो पहले से थी हिं हसीं, जबसे काजल लगा वादियाँ हो गई।
इक दफ़ा मैं भी ख़ूब जाता था उस गली,
जबसे नज़रे मिली आशियाँ हो गयी। मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई,
पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। जाने कितनी दफा दिल को रौशन किया, चाँद का नूर ले कहकशां हो गई।
मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई,
पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। ये शिकायत भी अब हमसे क्यों हो गई,
जाते-जाते वो फिर मेहरबां हो गई।
इस क़दर मैंने उसको मोहब्ब्त किया,
उसपे हर ख़्वाहिशें क़ुर्बा हो गई।
मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई,
पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। वो भी कुछ इस क़दर मुझमे खोने लगी,
होंठ भी क्या करे, नरम होने लगी। मैं भी उसकी जो बाहों में यूँ सो गया,
थोड़ी हिं देर में ये सुबह हो गयी।
मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई,
पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। रचनाकर- कौशल पांचाल
#kavyaprahar #teachersday #wordporn #sarvepalliradhakrishnan #drsradhakrishnan #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

प्रेम की एक ग़ज़ल प्रेम की एक धुन गुनगुनाता हूँ। जिस प्रेम से चलती है दुनियाँ, आइए मैं उसी के कुछ शेर सुनाता हूँ। _______________________________________________________________________ मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई, पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। मैंने खिलती कली को हिं देखा था तब, आज देखो वो कितनी जवां हो गई। उसकी आँखें तो पहले से थी हिं हसीं, जबसे काजल लगा वादियाँ हो गई। इक दफ़ा मैं भी ख़ूब जाता था उस गली, जबसे नज़रे मिली आशियाँ हो गयी। मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई, पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। जाने कितनी दफा दिल को रौशन किया, चाँद का नूर ले कहकशां हो गई। मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई, पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। ये शिकायत भी अब हमसे क्यों हो गई, जाते-जाते वो फिर मेहरबां हो गई। इस क़दर मैंने उसको मोहब्ब्त किया, उसपे हर ख़्वाहिशें क़ुर्बा हो गई। मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई, पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। वो भी कुछ इस क़दर मुझमे खोने लगी, होंठ भी क्या करे, नरम होने लगी। मैं भी उसकी जो बाहों में यूँ सो गया, थोड़ी हिं देर में ये सुबह हो गयी। मेरी भी इक ग़ज़ल अब जवां हो गई, पंख दे दो इसे ये रवां हो गयी। रचनाकर- कौशल पांचाल #kavyaprahar #teachersday #wordporn #sarvepalliradhakrishnan #drsradhakrishnan #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

____चांद_____
चांद बचपन में हम तुझे कई बार कुचल चुके है।
चांदनी रात में थाली में पानी भर मचल चुके है। ये जो दाग है तुझमें मैने बचपन में दिया था
जवानी मे तो तेरा बिस्तर तक दखल चुके है। इन बादलों कि होड़ में कहाँ तक छिपेगा
जो ठंड में हमारे सिगरेट से निकल चुके है। मोहब्बत से आजा सामने वरना पर्दा चीर डालूंगा
तेरे इन हरकतों से अब हम भी भड़क चुके है। वक्त़ पे आना छत पे तारो कि बातों में मत पड़ना
वो टूट टूट कर मिलने कई बार आ चुके है। बेवफाई कि कोशिश करने कि सोचना नहीं हम भी कम नहीं सड़क पकड़ चुके है। रचनाकर - प्रिन्शु लोकेश (@prinshu_lokesh_tiwari )
#kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

____चांद_____ चांद बचपन में हम तुझे कई बार कुचल चुके है। चांदनी रात में थाली में पानी भर मचल चुके है। ये जो दाग है तुझमें मैने बचपन में दिया था जवानी मे तो तेरा बिस्तर तक दखल चुके है। इन बादलों कि होड़ में कहाँ तक छिपेगा जो ठंड में हमारे सिगरेट से निकल चुके है। मोहब्बत से आजा सामने वरना पर्दा चीर डालूंगा तेरे इन हरकतों से अब हम भी भड़क चुके है। वक्त़ पे आना छत पे तारो कि बातों में मत पड़ना वो टूट टूट कर मिलने कई बार आ चुके है। बेवफाई कि कोशिश करने कि सोचना नहीं हम भी कम नहीं सड़क पकड़ चुके है। रचनाकर - प्रिन्शु लोकेश ( @prinshu_lokesh_tiwari ) #kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

गजब हो गया
खूद तो स्नान किया भी नहीं,
दूसरों पर हँसना गजब हो गया। स्वयं को आंका कभी - भी नहीं,
दूसरों की क्षमता मत आना गजब हो गया। चेहरे पर मिट्टी लगी ही रही, दूसरों के हवा उड़ाना गजब हो गया। अपने ही आदत से वो हार बैठे,
दूसरों को सीखाना गजब हो गया। खुद के हाथ अभी झूठे थे, दूसरों को दिखाना गजब हो गया। मानसिक गुलामी छोड़ी भी नहीं, दूसरों को उकसाना गजब हो गया। खुद कुछ बड़ा किये भी नहीं, दूसरों को पागल बनाना गजब हो गया।
बचपन से झूठ का सहारा लिए,
दूसरों को आगाह करना गजब हो गया। स्वयं का कोई विचार अब तक नहीं,
दूसरों को हीन बताना गजब हो गया।
अंधेरे में यात्रा कभी की ही नहीं,
दूसरों को हराना गजब हो गया। वीरता के भाव जगा ही नहीं, दूसरों को दुर्बल बताना गजब हो गया। खड़े रहने की आदत बनी भी नहीं,
दूसरों के सरकत बताना गजब हो गया। जिसने मटर व अरहर को समझा नहीं, दूसरों को दालें समझाना गजब हो गया।
दो पैर व चार के मतलब जाना नहीं,
दूसरों को इंसानियत बताना गजब हो गया। खुद का तो बड़ा पहचान है ही नहीं, दूसरों को बहकाना गजब हो गया।
कागजों से बाहर विचार है ही नहीं, रुझानों को बिगाड़ना गजब हो गया। इतिहास पढ़ कर सिमट जो गया, दूसरों को गिराना अब गजब हो गया। अखाड़े की मिट्टी कभी लगी ही नहीं, अब पहलवानी बताना गजब हो गया। चरित्र में कोई निखार झलकता नहीं, दूसरों को बेकार परखना गजब हो गया। अब बदलाव पर कभी चले भी नहीं,
दूसरों के भविष्य को नकारना गजब हो गया। ✍️केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

गजब हो गया खूद तो स्नान किया भी नहीं, दूसरों पर हँसना गजब हो गया। स्वयं को आंका कभी - भी नहीं, दूसरों की क्षमता मत आना गजब हो गया। चेहरे पर मिट्टी लगी ही रही, दूसरों के हवा उड़ाना गजब हो गया। अपने ही आदत से वो हार बैठे, दूसरों को सीखाना गजब हो गया। खुद के हाथ अभी झूठे थे, दूसरों को दिखाना गजब हो गया। मानसिक गुलामी छोड़ी भी नहीं, दूसरों को उकसाना गजब हो गया। खुद कुछ बड़ा किये भी नहीं, दूसरों को पागल बनाना गजब हो गया। बचपन से झूठ का सहारा लिए, दूसरों को आगाह करना गजब हो गया। स्वयं का कोई विचार अब तक नहीं, दूसरों को हीन बताना गजब हो गया। अंधेरे में यात्रा कभी की ही नहीं, दूसरों को हराना गजब हो गया। वीरता के भाव जगा ही नहीं, दूसरों को दुर्बल बताना गजब हो गया। खड़े रहने की आदत बनी भी नहीं, दूसरों के सरकत बताना गजब हो गया। जिसने मटर व अरहर को समझा नहीं, दूसरों को दालें समझाना गजब हो गया। दो पैर व चार के मतलब जाना नहीं, दूसरों को इंसानियत बताना गजब हो गया। खुद का तो बड़ा पहचान है ही नहीं, दूसरों को बहकाना गजब हो गया। कागजों से बाहर विचार है ही नहीं, रुझानों को बिगाड़ना गजब हो गया। इतिहास पढ़ कर सिमट जो गया, दूसरों को गिराना अब गजब हो गया। अखाड़े की मिट्टी कभी लगी ही नहीं, अब पहलवानी बताना गजब हो गया। चरित्र में कोई निखार झलकता नहीं, दूसरों को बेकार परखना गजब हो गया। अब बदलाव पर कभी चले भी नहीं, दूसरों के भविष्य को नकारना गजब हो गया। ✍️केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

दरवाज़े पर दस्तक दे दी हमने,
कल घर में भी हम जायेंगे। तुम देखना ऐ दुनियाँ वालों,
चाँद पर तिरंगा फहराएंगे।। ये स्वप्न सतीश, कलाम का था,
अब देश के हर एक लाल का है। क्या हुआ जो आज हम चूक गए,
कल जीत कर तुमको दिखलायेंगे।। साइकिल पे रॉकेट को ले जाना,
सफ़र वहाँ से शुरू किया था। शुद्ध स्वदेशी चन्द्रयान का,
आज हमने निर्माण किया है।। गिरने का डर तो उनको है,
जो हार से भय खाते हैं। अरे हम तो अमृत के वंशज हैं ,
जीवन को रचते जाते हैं।। 'सीवान' सा फौलादी मन वाला,
जब देश की सेवा करता है। भारत का बच्चा-बच्चा तब,
उससे बस यही कहता है-
'तुम डरो नहीं, तुम रुको नहीं ,
बस आगे बढ़ते जाओ,
क्या हुआ जो आज चूक गए,
उठो कर्म में लग जाओ,
कल विजयश्री ख़ुद आएगी,
जीत का ताज पहनाएगी,
ये देश तुम्हारे साथ है,
बस तुम आगे बढ़ते जाओ।
बस तुम आगे बढ़ते जाओ।।' रचनाकर - अरुण 'आनंद '
#kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

दरवाज़े पर दस्तक दे दी हमने, कल घर में भी हम जायेंगे। तुम देखना ऐ दुनियाँ वालों, चाँद पर तिरंगा फहराएंगे।। ये स्वप्न सतीश, कलाम का था, अब देश के हर एक लाल का है। क्या हुआ जो आज हम चूक गए, कल जीत कर तुमको दिखलायेंगे।। साइकिल पे रॉकेट को ले जाना, सफ़र वहाँ से शुरू किया था। शुद्ध स्वदेशी चन्द्रयान का, आज हमने निर्माण किया है।। गिरने का डर तो उनको है, जो हार से भय खाते हैं। अरे हम तो अमृत के वंशज हैं , जीवन को रचते जाते हैं।। 'सीवान' सा फौलादी मन वाला, जब देश की सेवा करता है। भारत का बच्चा-बच्चा तब, उससे बस यही कहता है- 'तुम डरो नहीं, तुम रुको नहीं , बस आगे बढ़ते जाओ, क्या हुआ जो आज चूक गए, उठो कर्म में लग जाओ, कल विजयश्री ख़ुद आएगी, जीत का ताज पहनाएगी, ये देश तुम्हारे साथ है, बस तुम आगे बढ़ते जाओ। बस तुम आगे बढ़ते जाओ।।' रचनाकर - अरुण 'आनंद ' #kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

दरवाज़े पर दस्तक दे दी हमने,
कल घर में भी हम जायेंगे। तुम देखना ऐ दुनियाँ वालों,
चाँद पर तिरंगा फहराएंगे।। ये स्वप्न सतीश, कलाम का था,
अब देश के हर एक लाल का है। क्या हुआ जो आज हम चूक गए,
कल जीत कर तुमको दिखलायेंगे।। साइकिल पे रॉकेट को ले जाना,
सफ़र वहाँ से शुरू किया था। शुद्ध स्वदेशी चन्द्रयान का,
आज हमने निर्माण किया है।। गिरने का डर तो उनको है,
जो हार से भय खाते हैं। अरे हम तो अमृत के वंशज हैं ,
जीवन को रचते जाते हैं।। 'सीवान' सा फौलादी मन वाला,
जब देश की सेवा करता है। भारत का बच्चा-बच्चा तब,
उससे बस यही कहता है-
'तुम डरो नहीं, तुम रुको नहीं ,
बस आगे बढ़ते जाओ,
क्या हुआ जो आज चूक गए,
उठो कर्म में लग जाओ,
कल विजयश्री ख़ुद आएगी,
जीत का ताज पहनाएगी,
ये देश तुम्हारे साथ है,
बस तुम आगे बढ़ते जाओ।
बस तुम आगे बढ़ते जाओ।।' रचनाकर - अरुण 'आनंद '
#kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

दरवाज़े पर दस्तक दे दी हमने, कल घर में भी हम जायेंगे। तुम देखना ऐ दुनियाँ वालों, चाँद पर तिरंगा फहराएंगे।। ये स्वप्न सतीश, कलाम का था, अब देश के हर एक लाल का है। क्या हुआ जो आज हम चूक गए, कल जीत कर तुमको दिखलायेंगे।। साइकिल पे रॉकेट को ले जाना, सफ़र वहाँ से शुरू किया था। शुद्ध स्वदेशी चन्द्रयान का, आज हमने निर्माण किया है।। गिरने का डर तो उनको है, जो हार से भय खाते हैं। अरे हम तो अमृत के वंशज हैं , जीवन को रचते जाते हैं।। 'सीवान' सा फौलादी मन वाला, जब देश की सेवा करता है। भारत का बच्चा-बच्चा तब, उससे बस यही कहता है- 'तुम डरो नहीं, तुम रुको नहीं , बस आगे बढ़ते जाओ, क्या हुआ जो आज चूक गए, उठो कर्म में लग जाओ, कल विजयश्री ख़ुद आएगी, जीत का ताज पहनाएगी, ये देश तुम्हारे साथ है, बस तुम आगे बढ़ते जाओ। बस तुम आगे बढ़ते जाओ।।' रचनाकर - अरुण 'आनंद ' #kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

इन भारतीयों के चेहरे को, शायद चाँद नहीं देखा था। हौसलों के साथ सिवान चले, इन प्रेमियों को उसने नहीं देखा था।। अफसोस की बादल छाए,
ऊधर चाँद मायूस दिखने लगा। जल्दी बाजी कर दी मिलने में, रुके लेंडर से चाँद कहने लगा।। इस मिट्टी की महक गजब की है, बेवफा चाँद को कहना पड़ा। इस देश ने संघर्ष रोके नहीं, अब युग को दिखाना पड़ा।। व्रत का स्वरूप यहाँ दिखा, 48 दिन कम नहीं होते।
चाँदनी चूमना छोड़ेंगे नहीं, चाँद की हठ से हम नहीं रोते।। अंधेरा अब कहाँ रहा, कलाम जो दरवाजे खोल दिए।
एक क्या हजार चाँद लाएंगे, यह भारतीय दिलों ने बोल दिए।। आज भारतीय रथ चल रहा, चाँद के साथ अंतरिक्ष पद पर।
भुला दूं कैसे अथक प्रयासों को, जो रची इतिहास हमने रजनी भर।। लगो शोधकों साधक तुम,
अब चाँद पर विजय हमारा है।
पाँच फ़ीसदी चाँद ने झुकाया, अगली ध्वज फहरे, वो हमारा है।। गर्व हुआ इसरो तुम पर आज,
भारत का बच्चा-बच्चा जाना है।
एक तीर गिरी, दूसरा कमान लगा दो,
चाँद को धरा तक अब लाना है।। रचनाकर - केशव विवेकी
@keshavviveki
#kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

इन भारतीयों के चेहरे को, शायद चाँद नहीं देखा था। हौसलों के साथ सिवान चले, इन प्रेमियों को उसने नहीं देखा था।। अफसोस की बादल छाए, ऊधर चाँद मायूस दिखने लगा। जल्दी बाजी कर दी मिलने में, रुके लेंडर से चाँद कहने लगा।। इस मिट्टी की महक गजब की है, बेवफा चाँद को कहना पड़ा। इस देश ने संघर्ष रोके नहीं, अब युग को दिखाना पड़ा।। व्रत का स्वरूप यहाँ दिखा, 48 दिन कम नहीं होते। चाँदनी चूमना छोड़ेंगे नहीं, चाँद की हठ से हम नहीं रोते।। अंधेरा अब कहाँ रहा, कलाम जो दरवाजे खोल दिए। एक क्या हजार चाँद लाएंगे, यह भारतीय दिलों ने बोल दिए।। आज भारतीय रथ चल रहा, चाँद के साथ अंतरिक्ष पद पर। भुला दूं कैसे अथक प्रयासों को, जो रची इतिहास हमने रजनी भर।। लगो शोधकों साधक तुम, अब चाँद पर विजय हमारा है। पाँच फ़ीसदी चाँद ने झुकाया, अगली ध्वज फहरे, वो हमारा है।। गर्व हुआ इसरो तुम पर आज, भारत का बच्चा-बच्चा जाना है। एक तीर गिरी, दूसरा कमान लगा दो, चाँद को धरा तक अब लाना है।। रचनाकर - केशव विवेकी @keshavviveki #kavyaprahar #isro #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

बेवफ़ा चाँद
तू चाँद मेरा है ये मान लिया।
तु रिश्ता निभाएगा जान लिया
तुझे ग़ुरूर हो गया सुंदरता पर,
दहलीज़ से बंधन तोड़ दिया। बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2
कई वर्षों से मन में जो आस थीं।
मिलने की उमीदें कुछ खास थी
समझ ना पाया हमारे प्यार को,
आँसू में बदल दी जो साँस थी
बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2
साथ देकर के पीछे मुड़ गया।
दिलों में खंजर उतार दिया
एक आँसू ना गिरा आज,
करोड़ो आँसुओ का सैलाब बह गया। बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2
तुझे शर्म ना आई वो बेरहम।
इंसानियत का भूल गया धर्म।
तेरे चेहरे पर दाग था दाग ही रहेगा।
तूने खाई ना हमारे प्यार पर रहम।
बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2
तू चांद है तो नखरे दिखाएगा, बेवफ़ा तू अपना चेहरा छुपायेगा।
ये सुन एक होगा मेरी मुट्ठी मे,
ये भारत है, आशिक तेरा, लौट कर फिर आऐगा
बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद..2
रचनाकर - जितेन्द्र रावत
#kavyaprahar #teachersday #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

बेवफ़ा चाँद तू चाँद मेरा है ये मान लिया। तु रिश्ता निभाएगा जान लिया तुझे ग़ुरूर हो गया सुंदरता पर, दहलीज़ से बंधन तोड़ दिया। बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2 कई वर्षों से मन में जो आस थीं। मिलने की उमीदें कुछ खास थी समझ ना पाया हमारे प्यार को, आँसू में बदल दी जो साँस थी बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2 साथ देकर के पीछे मुड़ गया। दिलों में खंजर उतार दिया एक आँसू ना गिरा आज, करोड़ो आँसुओ का सैलाब बह गया। बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2 तुझे शर्म ना आई वो बेरहम। इंसानियत का भूल गया धर्म। तेरे चेहरे पर दाग था दाग ही रहेगा। तूने खाई ना हमारे प्यार पर रहम। बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद...2 तू चांद है तो नखरे दिखाएगा, बेवफ़ा तू अपना चेहरा छुपायेगा। ये सुन एक होगा मेरी मुट्ठी मे, ये भारत है, आशिक तेरा, लौट कर फिर आऐगा बेवफ़ा है तू चाँद, बेवफा है तू चाँद..2 रचनाकर - जितेन्द्र रावत #kavyaprahar #teachersday #wordporn #chandrayan2 #proudisro #makingindiaproud #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

اے رب میرا خواب سچا ہو,
وہی تا حیات میرا محرم ہو.
Ay raab mera khuwab sacha ho,
wohi taa-hayaat mera mehram ho. ©sukhwrites
.
.
.
.
.
.
.
.
#sukhwrites❤️ #hashtagsfordays #poetryislife #truewordsspoken #dreamcatcher #poetofig #instagrammar #poemigers #igdaily #urdupoetryworld #poetsofinstagrampoetry #igpoetscommunity #blogofinstagram #publicpoetry #followforfollow #likesforlikesfromme #users

اے رب میرا خواب سچا ہو, وہی تا حیات میرا محرم ہو. Ay raab mera khuwab sacha ho, wohi taa-hayaat mera mehram ho. ©sukhwrites . . . . . . . . #sukhwrites❤️ #hashtagsfordays #poetryislife #truewordsspoken #dreamcatcher #poetofig #instagrammar #poemigers #igdaily #urdupoetryworld #poetsofinstagrampoetry #igpoetscommunity #blogofinstagram #publicpoetry #followforfollow #likesforlikesfromme #users

A special thank you to each of our featured poets for doing an amazing job in our reading series held today at Bracewell Neighborhood Library.
Thank you to everyone who joined afterwards at Pho Hai Van Restaurant.
#publicpoetryhouston #takingpoetrypublic #poetrystrong #publicpoetry #houston #houstontx #cityofhouston #houstonartsalliance #houstonmoca #ILoveHPL #hplbracewell #houstonlibrary #houstonpubliclibrary #phohaivan #pho

A special thank you to each of our featured poets for doing an amazing job in our reading series held today at Bracewell Neighborhood Library. Thank you to everyone who joined afterwards at Pho Hai Van Restaurant. #publicpoetryhouston #takingpoetrypublic #poetrystrong #publicpoetry #houston #houstontx #cityofhouston #houstonartsalliance #houstonmoca #ILoveHPL #hplbracewell #houstonlibrary #houstonpubliclibrary #phohaivan #pho

इन भारतीयों के चेहरे को, शायद चाँद नहीं देखा था। हौसलों के साथ सिवान चले, इन प्रेमियों को उसने नहीं देखा था।। अफसोस की बादल छाए,
ऊधर चाँद मायूस दिखने लगा। जल्दी बाजी कर दी मिलने में, रुके लेंडर से चाँद कहने लगा।। इस मिट्टी की महक गजब की है, बेवफा चाँद को कहना पड़ा। इस देश ने संघर्ष रोके नहीं, अब युग को दिखाना पड़ा।। व्रत का स्वरूप यहाँ दिखा, 48 दिन कम नहीं होते।
चाँदनी चूमना छोड़ेंगे नहीं, चाँद की हठ से हम नहीं रोते।। अंधेरा अब कहाँ रहा, कलाम जो दरवाजे खोल दिए।
एक क्या हजार चाँद लाएंगे, यह भारतीय दिलों ने बोल दिए।। आज भारतीय रथ चल रहा, चाँद के साथ अंतरिक्ष पद पर।
भुला दूं कैसे अथक प्रयासों को, जो रची इतिहास हमने रजनी भर।। लगो शोधकों साधक तुम,
अब चाँद पर विजय हमारा है।
पाँच फ़ीसदी चाँद ने झुकाया, अगली ध्वज फहरे, वो हमारा है।। गर्व हुआ इसरो तुम पर आज,
भारत का बच्चा-बच्चा जाना है।
एक तीर गिरी, दूसरा कमान लगा दो,
चाँद को धरा तक अब लाना है।। @केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

इन भारतीयों के चेहरे को, शायद चाँद नहीं देखा था। हौसलों के साथ सिवान चले, इन प्रेमियों को उसने नहीं देखा था।। अफसोस की बादल छाए, ऊधर चाँद मायूस दिखने लगा। जल्दी बाजी कर दी मिलने में, रुके लेंडर से चाँद कहने लगा।। इस मिट्टी की महक गजब की है, बेवफा चाँद को कहना पड़ा। इस देश ने संघर्ष रोके नहीं, अब युग को दिखाना पड़ा।। व्रत का स्वरूप यहाँ दिखा, 48 दिन कम नहीं होते। चाँदनी चूमना छोड़ेंगे नहीं, चाँद की हठ से हम नहीं रोते।। अंधेरा अब कहाँ रहा, कलाम जो दरवाजे खोल दिए। एक क्या हजार चाँद लाएंगे, यह भारतीय दिलों ने बोल दिए।। आज भारतीय रथ चल रहा, चाँद के साथ अंतरिक्ष पद पर। भुला दूं कैसे अथक प्रयासों को, जो रची इतिहास हमने रजनी भर।। लगो शोधकों साधक तुम, अब चाँद पर विजय हमारा है। पाँच फ़ीसदी चाँद ने झुकाया, अगली ध्वज फहरे, वो हमारा है।। गर्व हुआ इसरो तुम पर आज, भारत का बच्चा-बच्चा जाना है। एक तीर गिरी, दूसरा कमान लगा दो, चाँद को धरा तक अब लाना है।। @ केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

@ Pho Hai Van Restaurant with poets of the Public Poetry Recitals: Through the prism of poetry, poets hold up a mirror to society and helps us see more of ourselves. .... Thanks to Fran Sanders, host of Public Poetry, for organizing the event. The poets, Matty Layne Glasgow, Choonwhamoon, and Dulcie Veluthukaran were inspiring and thought provoking..... ...The following meet-up at Pho Hai Van Restaurant was intellectually stimulating and delicious....
. #publicpoetry #mattylayneglasgow #dulcieveluthukaran #choonwhamoon #poetry #arjumandmubaarak #phochinsoup #cafesuaducoffee #fransanders

@ Pho Hai Van Restaurant with poets of the Public Poetry Recitals: Through the prism of poetry, poets hold up a mirror to society and helps us see more of ourselves. .... Thanks to Fran Sanders, host of Public Poetry, for organizing the event. The poets, Matty Layne Glasgow, Choonwhamoon, and Dulcie Veluthukaran were inspiring and thought provoking..... ...The following meet-up at Pho Hai Van Restaurant was intellectually stimulating and delicious.... . #publicpoetry #mattylayneglasgow #dulcieveluthukaran #choonwhamoon #poetry #arjumandmubaarak #phochinsoup #cafesuaducoffee #fransanders

@ Public Poetry Recitals: Through the prism of poetry, poets hold up a mirror to society and helps us see more of ourselves. .... Thanks to Fran Sanders, host of Public Poetry, for organizing the event. The poets, Matty Layne Glasgow, Choonwhamoon, and Dulcie Veluthukaran were inspiring and thought provoking..... The following meet-up at Pho Hai Van Restaurant was intellectually stimulating and delicious...
. #publicpoetry #mattylayneglasgow #dulcieveluthukaran #choonwhamoon #poetry #arjumandmubaarak #phochinsoup #cafesuaducoffee #fransanders

@ Public Poetry Recitals: Through the prism of poetry, poets hold up a mirror to society and helps us see more of ourselves. .... Thanks to Fran Sanders, host of Public Poetry, for organizing the event. The poets, Matty Layne Glasgow, Choonwhamoon, and Dulcie Veluthukaran were inspiring and thought provoking..... The following meet-up at Pho Hai Van Restaurant was intellectually stimulating and delicious... . #publicpoetry #mattylayneglasgow #dulcieveluthukaran #choonwhamoon #poetry #arjumandmubaarak #phochinsoup #cafesuaducoffee #fransanders

@ Public Poetry Recitals: Through the prism of poetry, poets hold up a mirror to society and helps us see more of ourselves....
... Thanks to Fran, host of Public Poetry, for organizing the event. The poets, Matty Layne Glasgow, Choonwhamoon, and Dulcie Veluthukaran were inspiring and thought provoking..... .
The following meet-up at Pho Hai Van Restaurant was intellectually stimulating and delicious. ...... #publicpoetry #mattylayneglasgow #dulcieveluthukaran #choonwhamoon #poetry #arjumandmubaarak #phochinsoup #cafesuaducoffee

@ Public Poetry Recitals: Through the prism of poetry, poets hold up a mirror to society and helps us see more of ourselves.... ... Thanks to Fran, host of Public Poetry, for organizing the event. The poets, Matty Layne Glasgow, Choonwhamoon, and Dulcie Veluthukaran were inspiring and thought provoking..... . The following meet-up at Pho Hai Van Restaurant was intellectually stimulating and delicious. ...... #publicpoetry #mattylayneglasgow #dulcieveluthukaran #choonwhamoon #poetry #arjumandmubaarak #phochinsoup #cafesuaducoffee

Starting the morning off early at #CollegeFest hosted by @campusphilly with some custom poems for all your end of summer needs. You can find me with the @fashiondistrictphl pop-up in Dilworth Park at City Hall from 10am-3pm.
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #dilworthpark #fashiondistrictphl #phillypoet #phillypoetry

Starting the morning off early at #CollegeFest hosted by @campusphilly with some custom poems for all your end of summer needs. You can find me with the @fashiondistrictphl pop-up in Dilworth Park at City Hall from 10am-3pm. #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #dilworthpark #fashiondistrictphl #phillypoet #phillypoetry

Join us today to meet our featured poet John Plueker.
2 PM, Saturday, September 7th - Bracewell Neighborhood Library, 9002 Kingspoint Dr. Houston, TX 77075.
#ILoveHPL #hplbracewell #houston #cityofhouston #htx #htown #houstonpoets #houstonlibrary #houstonpubliclibrary #takingpoetrypublic #publicpoetry #lifeofapoet #publicpoetryhouston #poetrystrong #houstonartsalliance #houstonmoca

Join us today to meet our featured poet John Plueker. 2 PM, Saturday, September 7th - Bracewell Neighborhood Library, 9002 Kingspoint Dr. Houston, TX 77075. #ILoveHPL #hplbracewell #houston #cityofhouston #htx #htown #houstonpoets #houstonlibrary #houstonpubliclibrary #takingpoetrypublic #publicpoetry #lifeofapoet #publicpoetryhouston #poetrystrong #houstonartsalliance #houstonmoca

दोनों के झोले
ऐ मेरे साथी जरा बता दो अभी,
मैं कंधे पर बोरा और तू बस्ता रखा। उम्र में दोनों छोटे सामान दिख रहे,
मैं धूर में लिपटा, तू नया दिख रहा।। यह सकून और किस्मत कहां मिलती है, जरा बता दो, मांग लूं मैं अभी। मेरे कपड़े फटे, तू अच्छा लग रहा, फेक दूं ये बोरे, बस बस्ते ले लू अभी।। गरीब घर से निकला, मुझे बोरा मिला,
तू हैसियत वाला, तुझे झोला मिला। मैं भूखा-नंगा, फेका बटोरा ही खाऊ,
पढ़ने निकला, तुझे मां का परोसा मिला।। सपने तुम आगे की देखते ही होगे,
मेरे लिए तेरे शकुन, सपना ही रहा।
तेरे आंखों में काजल, इधर कीचड़ भरा,
तेरे खुल-कूद, मस्ती, मेरा सपना ही रहा।। इस बस्ते में क्या-क्या रख बड़ा बनाया, यह बोरी भरती, खाली होती रहेगी। तुझे सिखाने वाले दिन-रात हैं मुझे हर रात पथ पर काटनी पड़ेगी।। ये जिंदगी कितने प्रकार से चल रही? एक ही पथ पर कितना अंतर हो गया। एक सज-धज तो कोई मासूम बना रहा,
पीठ पर रखें, निगाहों में अंतर हो गया।। यह किस्मत कहूं या लाचारी कहूं, दोनों की मर्मता आसान कैसे कहूं। छोड़ने के सदन, बहाने अनेक रखें,
किसी की भूख, भविष्य की कहानी का हूं।। अभी समानता सही ना पहुंच पाई है, चलते पथ पर मुझे दृश्य ने दिया।
गवाह सारे बालक के मनोदशा की, बच्चे की आहट कवि को हिला दिया।। @केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

दोनों के झोले ऐ मेरे साथी जरा बता दो अभी, मैं कंधे पर बोरा और तू बस्ता रखा। उम्र में दोनों छोटे सामान दिख रहे, मैं धूर में लिपटा, तू नया दिख रहा।। यह सकून और किस्मत कहां मिलती है, जरा बता दो, मांग लूं मैं अभी। मेरे कपड़े फटे, तू अच्छा लग रहा, फेक दूं ये बोरे, बस बस्ते ले लू अभी।। गरीब घर से निकला, मुझे बोरा मिला, तू हैसियत वाला, तुझे झोला मिला। मैं भूखा-नंगा, फेका बटोरा ही खाऊ, पढ़ने निकला, तुझे मां का परोसा मिला।। सपने तुम आगे की देखते ही होगे, मेरे लिए तेरे शकुन, सपना ही रहा। तेरे आंखों में काजल, इधर कीचड़ भरा, तेरे खुल-कूद, मस्ती, मेरा सपना ही रहा।। इस बस्ते में क्या-क्या रख बड़ा बनाया, यह बोरी भरती, खाली होती रहेगी। तुझे सिखाने वाले दिन-रात हैं मुझे हर रात पथ पर काटनी पड़ेगी।। ये जिंदगी कितने प्रकार से चल रही? एक ही पथ पर कितना अंतर हो गया। एक सज-धज तो कोई मासूम बना रहा, पीठ पर रखें, निगाहों में अंतर हो गया।। यह किस्मत कहूं या लाचारी कहूं, दोनों की मर्मता आसान कैसे कहूं। छोड़ने के सदन, बहाने अनेक रखें, किसी की भूख, भविष्य की कहानी का हूं।। अभी समानता सही ना पहुंच पाई है, चलते पथ पर मुझे दृश्य ने दिया। गवाह सारे बालक के मनोदशा की, बच्चे की आहट कवि को हिला दिया।। @ केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

Life’s a real dream, folks!
@larddog captured this poem in motion the other day in Rittenhouse Square. Feel the magic!
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry
________गजल________
चलते रस्ते में रखी शय दिखती नहीं।
सोने कि गिलास मे मय बिकती नहीं। चांद तारे तो बहुत दूर है उनकी बात ही छोड़ो
सानमे बैठी मोहब्बत तक दिखती नहीं। उसके ख्यालों में पता नहीं क्या लिख जाते है
खुदा कसम मेरी कलम गजल लिखतीं नहीं। लगता उसके हुस्न कि चमक धीमी पड़ गई
क्योंकि उसके खिड़की मे रोशनी दिखती नहीं। हमें भी इश्क़ जरूर मयस्सर हो जाता
पै इश्क़ कि कहानी सियासत लिखतीं नहीं। रचनाकर - @prinshu_lokesh_tiwari --------------------- #Keshavviveki #kavyaprahar #teachersday #wordporn #sarvepalliradhakrishnan #drsradhakrishnan #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

________गजल________ चलते रस्ते में रखी शय दिखती नहीं। सोने कि गिलास मे मय बिकती नहीं। चांद तारे तो बहुत दूर है उनकी बात ही छोड़ो सानमे बैठी मोहब्बत तक दिखती नहीं। उसके ख्यालों में पता नहीं क्या लिख जाते है खुदा कसम मेरी कलम गजल लिखतीं नहीं। लगता उसके हुस्न कि चमक धीमी पड़ गई क्योंकि उसके खिड़की मे रोशनी दिखती नहीं। हमें भी इश्क़ जरूर मयस्सर हो जाता पै इश्क़ कि कहानी सियासत लिखतीं नहीं। रचनाकर - @prinshu_lokesh_tiwari --------------------- #Keshavviveki #kavyaprahar #teachersday #wordporn #sarvepalliradhakrishnan #drsradhakrishnan #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

मेरा वक्त दूसरों के लिए
सजाना उसी को आता है,
जो वर्तमान में होता है। कदर केवल उसी से होता है,
जो जीवित वर्तमान से होता है। कौन क्या यहां जानता, सब कुछ यही कौन मानता।
रेखाओं की पतझड़ बनी, सोच का सफर कौन मानता।। अतीत ही लोभ बन गई,
जीवन ही सर दर्द बन गई।
इरादे भूला इंसान ने, रोना अपना अपनापन बन गई।। जहां में उपहार कुछ होगा, हर राह की सार कुछ होगा। व्यक्ति मोह किया अतीत से,
अज्ञान में ज्ञान कुछ तो होगा।। सरल पथ आज अपनाया, सबको वैसे ही अपनाया।
वर्तमान किसी का कौन सोचता,
अपना छोड़ उन्हें ही अपनाया। कागज से पहले समय रहा, सोच से बड़ा आत्मबल रहा।
कुछ- कुछ आदतों से जाना, दूसरों के लिये संसार चल रहा।। अपना कहां कब खत्म होता,
दूसरों का कब बोध होता।
त्याग वर्तमान से बस इतना, छोड़े अपना किसी का खोज होता।। अपना वर्तमान मैंने छोड़ा है, स्वार्थों के पथ को तोड़ा है। स्वागत करता दूसरे वर्तमान का,
आज भी जिंदगी बस थोड़ा है।। ✍️कवि केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

मेरा वक्त दूसरों के लिए सजाना उसी को आता है, जो वर्तमान में होता है। कदर केवल उसी से होता है, जो जीवित वर्तमान से होता है। कौन क्या यहां जानता, सब कुछ यही कौन मानता। रेखाओं की पतझड़ बनी, सोच का सफर कौन मानता।। अतीत ही लोभ बन गई, जीवन ही सर दर्द बन गई। इरादे भूला इंसान ने, रोना अपना अपनापन बन गई।। जहां में उपहार कुछ होगा, हर राह की सार कुछ होगा। व्यक्ति मोह किया अतीत से, अज्ञान में ज्ञान कुछ तो होगा।। सरल पथ आज अपनाया, सबको वैसे ही अपनाया। वर्तमान किसी का कौन सोचता, अपना छोड़ उन्हें ही अपनाया। कागज से पहले समय रहा, सोच से बड़ा आत्मबल रहा। कुछ- कुछ आदतों से जाना, दूसरों के लिये संसार चल रहा।। अपना कहां कब खत्म होता, दूसरों का कब बोध होता। त्याग वर्तमान से बस इतना, छोड़े अपना किसी का खोज होता।। अपना वर्तमान मैंने छोड़ा है, स्वार्थों के पथ को तोड़ा है। स्वागत करता दूसरे वर्तमान का, आज भी जिंदगी बस थोड़ा है।। ✍️कवि केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

माँ होती धरती से बड़ी,
पिता आकाश से ऊपर ,
हे प्रभु! जो है तुझसे ऊपर ,
वो हैं हमारे गुरु। जन्म  दिया माँ ने हमें,
पिता ने हमें चलना सिखाया,
उसकी रहमत से मिली,
एक हसीन दुनिया,
पर बेकार थे ये सब,
जो न होते गुरुवर आप।
सुना है मैंने,
कर्ज माँ-बाप के उतर जाते,
कंधे देने से।
गुरुवर बनाया आपने,
हमें काबिल ,
कर्ज चुकाएँ भी तो-
कैसे हम आपका। सजदे में झुकता हूँ,
हर बार आपके,
एक अरदास है,
गुरवर ठुकराना नहीं
मेरी गलतियों की सजा
जो भी दो मंजूर हमें ,
पर कभी मेरे सर से,
अपना हाथ हटाना नहीं। आप ही तय करते ,
हर वजूद हमारा।
आपके बिना गुरुवर ,
कहीं भी गुज़ारा नहीं। रचनाकर - अरून आनंद (@arunpenpost)
@keshavviveki
@arunpenpost
---------------------
#Keshavviveki #kavyaprahar #teachersday #wordporn #sarvepalliradhakrishnan #drsradhakrishnan #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

माँ होती धरती से बड़ी, पिता आकाश से ऊपर , हे प्रभु! जो है तुझसे ऊपर , वो हैं हमारे गुरु। जन्म  दिया माँ ने हमें, पिता ने हमें चलना सिखाया, उसकी रहमत से मिली, एक हसीन दुनिया, पर बेकार थे ये सब, जो न होते गुरुवर आप। सुना है मैंने, कर्ज माँ-बाप के उतर जाते, कंधे देने से। गुरुवर बनाया आपने, हमें काबिल , कर्ज चुकाएँ भी तो- कैसे हम आपका। सजदे में झुकता हूँ, हर बार आपके, एक अरदास है, गुरवर ठुकराना नहीं मेरी गलतियों की सजा जो भी दो मंजूर हमें , पर कभी मेरे सर से, अपना हाथ हटाना नहीं। आप ही तय करते , हर वजूद हमारा। आपके बिना गुरुवर , कहीं भी गुज़ारा नहीं। रचनाकर - अरून आनंद ( @arunpenpost ) @keshavviveki @arunpenpost --------------------- #Keshavviveki #kavyaprahar #teachersday #wordporn #sarvepalliradhakrishnan #drsradhakrishnan #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

पूरा यहाँ पढें *गुरु प्रार्थना* गुरु श्रेष्ठ के चरणों में शीश झुकाता हूँ,
मैं कवि केशव काव्य से जी पाता हूँ।
अंधेरे के पट ओढ़ कर आया था,
गुरुओं के प्रकाश से अब चल पाता हूँ।। धरा पर कुछ संपदा, जिस पर ध्यान नहीं,
देता लाभ हमें, स्वयं पता भी नहीं।
सजीवों में कोई वस्तु नहीं जो त्याग करता हो,
गुरु के जैसा संघर्ष, कहीं और दिखता भी नहीं।। संस्कार व ज्ञान के ये कुंजी है, महान व्यक्तित्व के आज पूंजी हैं। बिना सहयोग कोई कुछ ना कर पाया,
हुआ सफल जहां में गुरु का नाम गूंजी है।। हम केवल इच्छा लेकर सोते हैं,
स्वार्थ में आ बस हर पल रोते हैं। स्वयं भले प्रयास ना कर सके,
मन में ला वो बीज गुरु बो देते हैं।। सिखाने के भाव अनंत भरा यहां पर,
भविष्य के आधार छिपे बस यहां पर।
स्वर्ग-सा वातावरण मिले इनसे आज,
ज्ञान सरोवर वास्तविक मिले यहां पर।। डर था कभी कलम पकड़ने में,
अंधेरा था किताबों को तब पढ़ने में।
अब तो अमृत का धार है बहता है,
कहता मन बस जीवन लगा दे लेने में।। *आधुनिक याचना* आधुनिकता आ गई, अब क्या करें,
मशीनी सपूतों में बदलाव का क्या करें।
गुणवत्ता स्वयं में रह नही गया, हर चीज का डिस्क बना गया, क्या, क्या करें।। निस्वार्थ गुरु पर इल्जाम लगाया जाता है,
नये ज्ञान की अभिलाषा कहीं मिटाया जाता है।
विद्या के मंदिर को ना समझ रहे हैं अब,
आज छात्र मेला को कहीं डुबाया जाता है।। ज्ञान कहीं से ले लो, क्या फर्क पड़ता,
बड़े से बड़ा बन जाओ, क्या फर्क पड़ता।
जहां से सीख लो, बस वही गुरु है,
ना दिए तो आगे ना मिले, क्या फर्क पड़ता।। आज जो कुछ भी है, संगत से बन पाया है, बेजान पड़ा था मैं, गुरु ने उठाया है।
त्याग इनकी ना दिखाई पड़े, क्या होता,
इनके आशीषों ने मुझे रसोमणि बनाया है।। ✍️कवि केशव विवेकी
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdeadई

पूरा यहाँ पढें *गुरु प्रार्थना* गुरु श्रेष्ठ के चरणों में शीश झुकाता हूँ, मैं कवि केशव काव्य से जी पाता हूँ। अंधेरे के पट ओढ़ कर आया था, गुरुओं के प्रकाश से अब चल पाता हूँ।। धरा पर कुछ संपदा, जिस पर ध्यान नहीं, देता लाभ हमें, स्वयं पता भी नहीं। सजीवों में कोई वस्तु नहीं जो त्याग करता हो, गुरु के जैसा संघर्ष, कहीं और दिखता भी नहीं।। संस्कार व ज्ञान के ये कुंजी है, महान व्यक्तित्व के आज पूंजी हैं। बिना सहयोग कोई कुछ ना कर पाया, हुआ सफल जहां में गुरु का नाम गूंजी है।। हम केवल इच्छा लेकर सोते हैं, स्वार्थ में आ बस हर पल रोते हैं। स्वयं भले प्रयास ना कर सके, मन में ला वो बीज गुरु बो देते हैं।। सिखाने के भाव अनंत भरा यहां पर, भविष्य के आधार छिपे बस यहां पर। स्वर्ग-सा वातावरण मिले इनसे आज, ज्ञान सरोवर वास्तविक मिले यहां पर।। डर था कभी कलम पकड़ने में, अंधेरा था किताबों को तब पढ़ने में। अब तो अमृत का धार है बहता है, कहता मन बस जीवन लगा दे लेने में।। *आधुनिक याचना* आधुनिकता आ गई, अब क्या करें, मशीनी सपूतों में बदलाव का क्या करें। गुणवत्ता स्वयं में रह नही गया, हर चीज का डिस्क बना गया, क्या, क्या करें।। निस्वार्थ गुरु पर इल्जाम लगाया जाता है, नये ज्ञान की अभिलाषा कहीं मिटाया जाता है। विद्या के मंदिर को ना समझ रहे हैं अब, आज छात्र मेला को कहीं डुबाया जाता है।। ज्ञान कहीं से ले लो, क्या फर्क पड़ता, बड़े से बड़ा बन जाओ, क्या फर्क पड़ता। जहां से सीख लो, बस वही गुरु है, ना दिए तो आगे ना मिले, क्या फर्क पड़ता।। आज जो कुछ भी है, संगत से बन पाया है, बेजान पड़ा था मैं, गुरु ने उठाया है। त्याग इनकी ना दिखाई पड़े, क्या होता, इनके आशीषों ने मुझे रसोमणि बनाया है।। ✍️कवि केशव विवेकी ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdeadई

Het dichten van het “gat” in de Maastrichtse stadsmuur met een gedicht van Maarten van den Berg
Op een groot geel doek lees je:
“ontembaar vocht de muur tegen vijand en vuur, tot zij
koortsig bollend bezweek, keien als koppen liet rollen
haar buik waarachtig een wortelkraker bleek en vijf eeuwen opende om de tijd opnieuw te stollen”
(Maarten van den Berg 2019)
#poetryreader65
#publicpoetry
#poetryinpublicspaces
#muurgedichten
#straatgedicht
#straatkunst
#thisismaastricht
#beautifulmaastricht
#maastricht
#maastrichtcity
#visitmaastricht
#thuisinmaastricht
#visitzuidlimburg
#belanda
#ontdekmaastricht
#citymagazinemaastricht
#ilovemaastricht
#ilovemaastricht❤️
#jeker
#jekerdal

Het dichten van het “gat” in de Maastrichtse stadsmuur met een gedicht van Maarten van den Berg Op een groot geel doek lees je: “ontembaar vocht de muur tegen vijand en vuur, tot zij
koortsig bollend bezweek, keien als koppen liet rollen
haar buik waarachtig een wortelkraker bleek en vijf eeuwen opende om de tijd opnieuw te stollen” (Maarten van den Berg 2019) #poetryreader65 #publicpoetry #poetryinpublicspaces #muurgedichten #straatgedicht #straatkunst #thisismaastricht #beautifulmaastricht #maastricht #maastrichtcity #visitmaastricht #thuisinmaastricht #visitzuidlimburg #belanda #ontdekmaastricht #citymagazinemaastricht #ilovemaastricht #ilovemaastricht❤️ #jeker #jekerdal

पूरी कविता यहाँ पढ़ें। नेता पर व्यंग्य
कितने सरकारों को बदले, स्वीकार हमें नहीं होते हैं,
बर्बाद पहले से हुए सभी, सत्ता में आ पूरे कर लेते हैं।। अधिकार सभी जनता का हैं,
सब भुलवाये में निकल जाता।
प्रचलन यहां की कुछ ऐसी ही, लोकतंत्र का झोला टांगा जाता।। सबका जड़ हम जनता है,
याद किसे यह रह जाता। लोगों के क्रोध बड़े हो भले,
नेता की चुप्पी में दब जाता।। बीमारी बड़ी लग चुकी है,
एहसास कैसे दिलाए अब।
हम पैदाइशी दुखियारे बने,
चुनावों में अपनापन पाते अब।। न जाने कितने कलमकार बने, प्रश्न चिन्ह ना कभी मिटता है।
पीढ़िया कितनी गुजर गई,
नेता सुभाष-सा नहीं मिलता है।। हमेशा रो तो नहीं सकते है,
लेकिन आँखे बातें रख देंगी।
खुशहाल मिला हृदय जनाजे में,
सच में नेता की लाश रही होगी।। सुविधाएं यह डकार जाते हैं, क्या मिलता राही परिंदों को। आकाश इतना नहीं झुकता है,
कौन समझाए लोभी चंदो को।। कुछ बात जो निकल जाती,
लोकतंत्र का नया बसेरा हो।
बड़े परिंदों ने पर लगा दिए,
चलो प्रहर जगाए नया सवेरा हो।। ✍️कवि केशव विवेकी
नये कविताएं पढ़ने के लिये पेज लाइक करें।
दिये गये लिंक पर जाये👇
https://www.facebook.com/Kavyaprahar
Whatsapp group👇
https://chat.whatsapp.com/6O03LgoJi2lGLfTNDMmlzv
Instagram 👇
https://www.instagram.com/kavyaprahar/
___________________________________ -#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

पूरी कविता यहाँ पढ़ें। नेता पर व्यंग्य कितने सरकारों को बदले, स्वीकार हमें नहीं होते हैं, बर्बाद पहले से हुए सभी, सत्ता में आ पूरे कर लेते हैं।। अधिकार सभी जनता का हैं, सब भुलवाये में निकल जाता। प्रचलन यहां की कुछ ऐसी ही, लोकतंत्र का झोला टांगा जाता।। सबका जड़ हम जनता है, याद किसे यह रह जाता। लोगों के क्रोध बड़े हो भले, नेता की चुप्पी में दब जाता।। बीमारी बड़ी लग चुकी है, एहसास कैसे दिलाए अब। हम पैदाइशी दुखियारे बने, चुनावों में अपनापन पाते अब।। न जाने कितने कलमकार बने, प्रश्न चिन्ह ना कभी मिटता है। पीढ़िया कितनी गुजर गई, नेता सुभाष-सा नहीं मिलता है।। हमेशा रो तो नहीं सकते है, लेकिन आँखे बातें रख देंगी। खुशहाल मिला हृदय जनाजे में, सच में नेता की लाश रही होगी।। सुविधाएं यह डकार जाते हैं, क्या मिलता राही परिंदों को। आकाश इतना नहीं झुकता है, कौन समझाए लोभी चंदो को।। कुछ बात जो निकल जाती, लोकतंत्र का नया बसेरा हो। बड़े परिंदों ने पर लगा दिए, चलो प्रहर जगाए नया सवेरा हो।। ✍️कवि केशव विवेकी नये कविताएं पढ़ने के लिये पेज लाइक करें। दिये गये लिंक पर जाये👇 https://www.facebook.com/Kavyaprahar Whatsapp group👇 https://chat.whatsapp.com/6O03LgoJi2lGLfTNDMmlzv Instagram 👇 https://www.instagram.com/kavyaprahar/ ___________________________________ - #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

इंसानियत
रचनाकार- जितेन्द्र रावत
---------------- कैसे कहू मैं हूँ सुखी,अपना मोल नही। इंसानियत खो गयी ,अब और दर्द नही। बंधन के जो संगम थे,अब वो बह गए।
अपनों की जो नीव थी,वो किले ढह गए।
खामोश जो मैं रहूँ, तो पूछते है हाल मेरा। खुशियाँ गर मांगू तो कहती,यहाँ कौन है तेरा। मैं खुद से हूँ रूठा,ये तू जान ले साथी। बिन तेल के जल रहा हूँ ,ऐसी हूँ बाती। दिल में है उमंग,पर नफ़रत पनप रही है। अपनों ने जो लगायी,वो आग सुलग रही है
गैरों ने क्या सलाह दी ,कि अपने रूठ गए।
उनकी ख़ुशी मेरी ख़ुशी,इसी में बहक गए।
कैसा ये दर्द झेला है रावत से ना पूछो। इंसान हूँ,मुझे जीने दो,यूँ बेरहम से ना नोचो। कहता हूँ बारम्बार यही,मिलके तुम फूलो। मस्तमगन है घटा,मिल के तुम झूलो। रचनाकार- जितेन्द्र रावत
---
दिल पे दस्तक दे तो जरूर बतइएगा...
@keshavviveki
@arunpenpost
---------------------
#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

इंसानियत रचनाकार- जितेन्द्र रावत ---------------- कैसे कहू मैं हूँ सुखी,अपना मोल नही। इंसानियत खो गयी ,अब और दर्द नही। बंधन के जो संगम थे,अब वो बह गए। अपनों की जो नीव थी,वो किले ढह गए। खामोश जो मैं रहूँ, तो पूछते है हाल मेरा। खुशियाँ गर मांगू तो कहती,यहाँ कौन है तेरा। मैं खुद से हूँ रूठा,ये तू जान ले साथी। बिन तेल के जल रहा हूँ ,ऐसी हूँ बाती। दिल में है उमंग,पर नफ़रत पनप रही है। अपनों ने जो लगायी,वो आग सुलग रही है गैरों ने क्या सलाह दी ,कि अपने रूठ गए। उनकी ख़ुशी मेरी ख़ुशी,इसी में बहक गए। कैसा ये दर्द झेला है रावत से ना पूछो। इंसान हूँ,मुझे जीने दो,यूँ बेरहम से ना नोचो। कहता हूँ बारम्बार यही,मिलके तुम फूलो। मस्तमगन है घटा,मिल के तुम झूलो। रचनाकार- जितेन्द्र रावत --- दिल पे दस्तक दे तो जरूर बतइएगा... @keshavviveki @arunpenpost --------------------- #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

__कविता__
प्रीति में कैसे मरुं-
__________________
प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। है तुम्हें भी ज्ञात इतना मैं अभी पागल नहीं।
है तुम्हें अनुमान इतना मैं अभी घायल नहीं।
शीश पे आशीष है हर समर को जीत लूगाँ।
गरज करके छिप जाऊं मैं ऐसा बादल नहीं। आओ जिसको आना है तृष्णा की खड्ग लेकर
प्रेम के इस द्वंद मे खड्ग भी तर जाएगी।
प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। प्रणिपात तुमको करता हूँ हे प्रियतमा प्रीति से।
प्रणय समर में आए हो लड़ना होगा नीति से।
सुरासुर का द्वंद नहीं कि छल कपट चल जाएगा
हे प्रिये हम मनु पुत्र है यहां विजय है रीति से। रीति से लड़ना होगा हे मेरी तु अप्सरा
ध्यान रहे इनमें कुछ कुरीति भी पड़ जाएगी।
प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। व्योम मे बादल गरजना लगता है बारिश भी होगी।
इन हमारे द्वदों में जरूर कुछ साजिश भी होगी।
हम भी कर्मों मे लगे है वो कर्मों में लगे
किस तरह हारे इसे हम उनकी हर कोशिश भी होगी। मिल न जाना हे प्रिये तुम बदलो मे धुआँ बनके
नहीं नैनों की बूंदी प्यालों में पड़ जाएगी।
प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी।
_प्रिन्शु लोकेश
रचनाकार- @prinshu_lokesh_tiwari
---
दिल पे दस्तक दे तो जरूर बतइएगा...
@keshavviveki
@arunpenpost
---------------------
#Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

__कविता__ प्रीति में कैसे मरुं- __________________ प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। है तुम्हें भी ज्ञात इतना मैं अभी पागल नहीं। है तुम्हें अनुमान इतना मैं अभी घायल नहीं। शीश पे आशीष है हर समर को जीत लूगाँ। गरज करके छिप जाऊं मैं ऐसा बादल नहीं। आओ जिसको आना है तृष्णा की खड्ग लेकर प्रेम के इस द्वंद मे खड्ग भी तर जाएगी। प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। प्रणिपात तुमको करता हूँ हे प्रियतमा प्रीति से। प्रणय समर में आए हो लड़ना होगा नीति से। सुरासुर का द्वंद नहीं कि छल कपट चल जाएगा हे प्रिये हम मनु पुत्र है यहां विजय है रीति से। रीति से लड़ना होगा हे मेरी तु अप्सरा ध्यान रहे इनमें कुछ कुरीति भी पड़ जाएगी। प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। व्योम मे बादल गरजना लगता है बारिश भी होगी। इन हमारे द्वदों में जरूर कुछ साजिश भी होगी। हम भी कर्मों मे लगे है वो कर्मों में लगे किस तरह हारे इसे हम उनकी हर कोशिश भी होगी। मिल न जाना हे प्रिये तुम बदलो मे धुआँ बनके नहीं नैनों की बूंदी प्यालों में पड़ जाएगी। प्रीति में कैसे मरुं मैं तु भी तो मर जाएगी। _प्रिन्शु लोकेश रचनाकार- @prinshu_lokesh_tiwari --- दिल पे दस्तक दे तो जरूर बतइएगा... @keshavviveki @arunpenpost --------------------- #Keshavviveki #kavyaprahar #writersofinstagram #wordporn #oneliner #piyushmishra #rekhta #lovequotes #yourquotes #yqbaba #yqdidi #writersofinsta #poetry #arunpenpost #technishala #poems #hindipoetry #loverquotes #arun_quotes #publicpoetry #openmic #twoliners #shayari #myshayari #instaquotes #ruhaniyat #lafz #galib #socialmediacontent #poetryisnotdead

I want to give a warm welcome to all the new folks who have joined me on here in the last few days. Welcome to the story of a Dream Poet from Philadelphia and his endless voyage towards the perfect line that describes the magic behind the scenes of the human experience.
When I first started setting up with my typewriter in public places 8 years ago, I was mostly interested in getting my name out there as a poet and pushing spoken word into the forefront of people’s conscious experience. It’s interesting how when I went full time with it, 4 years ago, it became almost immediately something else entirely.
Poetry is truly a healing art. Both in writing it and hearing it recited. There is catharsis. A connection to our heart is made. It is a way to escape the mundane and begin to celebrate the beautiful.
The role of The Poet in any community is to keep their head high in the clouds and point for others to look upwards. I’m grateful to have my community here, and in Philadelphia, and all around the country. Thank you for giving me my place wherever I go where I truly belong.
It has been quite a wild ride and there are so many more good times ahead! I’m excited to share some of them with you!
.
.
.
📷 by @jenna__love_
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

I want to give a warm welcome to all the new folks who have joined me on here in the last few days. Welcome to the story of a Dream Poet from Philadelphia and his endless voyage towards the perfect line that describes the magic behind the scenes of the human experience. When I first started setting up with my typewriter in public places 8 years ago, I was mostly interested in getting my name out there as a poet and pushing spoken word into the forefront of people’s conscious experience. It’s interesting how when I went full time with it, 4 years ago, it became almost immediately something else entirely. Poetry is truly a healing art. Both in writing it and hearing it recited. There is catharsis. A connection to our heart is made. It is a way to escape the mundane and begin to celebrate the beautiful. The role of The Poet in any community is to keep their head high in the clouds and point for others to look upwards. I’m grateful to have my community here, and in Philadelphia, and all around the country. Thank you for giving me my place wherever I go where I truly belong. It has been quite a wild ride and there are so many more good times ahead! I’m excited to share some of them with you! . . . 📷 by @jenna__love_ #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

#projectqa #shame #publicpoetry #poetry #queer
Feeling this.
Link is on my profile!
#Repost @phillyinquirer
- - - - - -
What aspect of life in Philadelphia would you like to read a poem about? Marshall James Kavanaugh gets the answer to that question on a regular basis as Philly's @DreamPoetForHire.
.
Kavanaugh, 32, of West Philly sets ups shop around the city and offers poems on demand to those who cross his path. Just give him a topic and he begins typing away on his typewriter. Moments later, he's reciting your custom poem.
.
“Philly has definitely given me a good range of weird topics. ... Gritty has come up a few times for sure.”
.
Your topic can be one word or you can tell Kavanaugh a full life story. It doesn't matter. All he suggests is a 'donation.' Since he’s a modern poet, he also takes credit cards, Venmo, and PayPal.
.
In just minutes, Kavanaugh can create for strangers, and for himself, what so many of us long for — connection, validation, and concrete proof through art that whatever else may come, this moment in time mattered.
.
This story is part of reporter @farfarraway's series, We The People. To learn more about Kavanaugh and to check out the rest of the series, visit Inquirer.com/wethepeople.
.
📷 by @hkhalifa / Staff
.
#dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

Link is on my profile! #Repost @phillyinquirer - - - - - - What aspect of life in Philadelphia would you like to read a poem about? Marshall James Kavanaugh gets the answer to that question on a regular basis as Philly's @DreamPoetForHire . . Kavanaugh, 32, of West Philly sets ups shop around the city and offers poems on demand to those who cross his path. Just give him a topic and he begins typing away on his typewriter. Moments later, he's reciting your custom poem. . “Philly has definitely given me a good range of weird topics. ... Gritty has come up a few times for sure.” . Your topic can be one word or you can tell Kavanaugh a full life story. It doesn't matter. All he suggests is a 'donation.' Since he’s a modern poet, he also takes credit cards, Venmo, and PayPal. . In just minutes, Kavanaugh can create for strangers, and for himself, what so many of us long for — connection, validation, and concrete proof through art that whatever else may come, this moment in time mattered. . This story is part of reporter @farfarraway 's series, We The People. To learn more about Kavanaugh and to check out the rest of the series, visit Inquirer.com/wethepeople. . 📷 by @hkhalifa / Staff . #dreampoetforhire #poetforhire #poetryondemand #streetwriters #buskinglife #busker #typewriterpoetry #poetsofinstagram #marshalljameskavanaugh #publicpoetry #rittenhousesquare #phillypoet #phillypoetry

دل کو بھلانے کیلئے خیال اچھا ہے غالب۔۔۔۔
Dil ko behlane k liye khayal acha hai ghalib!! ©Sukhwrites.. #poetryofinstagram #poetessofig #poemsofinstagram #funstagram #sukhwrites❤️ #hashtagrams #poetrycommunity #realspill #urdupoetry #poetryporm❤️ #wordyweekend #instagraming #publicpoetry #swagoffroad #blogofinstagram #urdulove #lughatularabiyyah #udictionary #hashtagsforlikesap